अब गोरखामुक्ति मोर्चा एनडीए से हुआ अलग

बीजेपी भले ही उत्तरप्रदेश में राज्य सभा की एक ज्यादा सीट जीतकर मग्न हो रही हो लेकिन बीजेपी को लगातार झटका भी लगता जा रहा है। अभी टीडीपी के झटके से बीजेपी उबर भी नहीं पायी थी कि पश्चिम बंगाल के गोरखा जनमुक्ति मोर्चा (जीजेएम) ने अपना नाता एनडीए से तोड़ लिया है। जीजेएम के प्रमुख एलएम लामा ने कहा कि बीजेपी नेताओं ने गोरखाओं के साथ विश्वासघात किया है। इसलिए अब उनका एनडीए से कोई संबंध नहीं है। बता दें कि जीजेएम का बीजेपी से अलग होना बीजेपी के बंगाल मिशन को काम कर देगा।

गोरखा जनमुक्ति मोर्चा ने बीजेपी पर गोरखाओं का विश्वास तोड़ने का आरोप लगाया है। जीजेएम प्रमुख एलएम लामा ने बताया कि पार्टी का अब एनडीए से कोई संबंध नहीं है। मोर्चा के लोग बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष के बयान से नाराज हैं। उन्होंने कहा था कि जीजेएम के साथ पार्टी का गठबंधन सिर्फ चुनावी गठबंधन है। लामा ने कहा कि इससे बीजेपी नेताओं के दावों की पोल खुल गई है। जिसमें वह लगातार जीजेएम को अपना दोस्त और एनडीए का सहयोगी बताती रही है। उन्होंने कहा कि दिलीप घोष के बयान से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दावे की भी हकीकत सामने आ गई है। जिसे वह गोरखाओं के सपने को अपना सपना बताते हैं लामा ने कहा कि 2009 और 2014 के लोकसभा चुनाव में गोरखा जनमुक्ति मोर्चा की ओर से दार्जिलिंग की सीट उन्हें उपहार स्वरूप दी थी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper