अब निजी बसें भी सड़कों पर भरेंगी फर्राटा, मिलेगा ऑनलाइन परमिट

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश राज्य सड़क परिवहन निगम (रोडवेज) की बसों के साथ अब निजी बसें सभी स्टेट हाईवे पर चल सकेंगी। इससे रोडवेज के राजस्व में इजाफा होगा। प्रमुख सचिव परिवहन आराधना शुक्ला ने गुरुवार को बताया कि सभी स्टेट हाईवे का मार्ग निर्धारण कर दिया गया है। इसलिए अब सभी स्टेट हाईवे पर निजी और सरकारी बसें परमिट लेकर चल सकेंगी। इससे न सिर्फ राजस्व का फायदा होगा बल्कि आने-जाने के लिए अच्छी बसों की सुविधा भी मिल सकेगी।

इन मार्गों पर बसों के संचालन के लिए कोई भी परमिट ले सकता है। अभी तक मार्ग तय न होने के कारण इस पर वैध रूप से बसों का संचालन नहीं हो पा रहा था। प्रदेश सरकार ने 2.27 लाख किमी. मार्ग निर्धारित किया है। हालांकि सरकार ने इसे राष्ट्रीयकृत मार्ग घोषित नहीं किया है। राष्ट्रीयकृत मार्ग घोषित होने पर वहां केवल परिवहन निगम की बसें ही संचालित हो पाती हैं। उस पर दूसरे बस संचालक अपनी बसें नहीं चला सकते हैं। अभी प्रदेश में 18 हजार किलोमीटर मार्ग ही राष्ट्रीयकृत हैं।

प्रमुख सचिव ने कहा कि प्रदेश सरकार मार्ग तय करने के बाद अब ऑनलाइन परमिट देने की तैयारी कर रही है। इसकी शुरुआत पायलट प्रोजेक्ट के रूप में लखनऊ से कर दी गई है। उन्होंने बताया कि लखनऊ का प्रयोग सफल होने के बाद इसे पूरे प्रदेश में लागू कर दिया जाएगा। इसके लागू होने के बाद परमिट लेने के लिए किसी को भी भटकना नहीं पड़ेगा। ऑनलाइन आवेदन करने पर परमिट मिल जायेगा।

दरअसल अभी तक परिवहन विभाग ने प्रदेश में केवल 35 हजार किलोमीटर मार्ग निर्धारित किया था। इसमें भी 15 हजार किलोमीटर मार्ग निर्धारण पिछले वर्ष योगी आदित्यनाथ की सरकार बनने के बाद हुआ। जबकि 20 हजार किलोमीटर मार्ग निर्धारण पिछले 20 वर्ष में हुआ था। अब प्रदेश सरकार ने एक साथ 2.27 लाख किलोमीटर मार्ग निर्धारण कर दिया है। ऐसे में अब पीडब्लूडी के सभी स्टेट हाईवे इसमें शामिल हो गए हैं। इसलिए इन सड़कों पर अब बसें संचालित हो सकेंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper