अब बिजली चोरी की परेशानी होगी छू-मंतर, बिजली कंपनी ने उपभोक्ताओं को दिया यह अधिकार

नई दिल्ली: यदि आप किसी कारणवश घर के बाहर गए हैं और आपकी गैर-मौजूदगी में बिजली चोरी का मामला सामने आया हो, या घर में रहते हुए भी आप बिजली चोरी की समस्या से जूझ रहे हैं, तो आपके लिए एक अच्छी खबर है। इससे बचने के लिए जरूरत होगी, तो केवल सबूत की। यदि आप इस समस्या का सामना कर रहे हैं या फिर कहीं बिजली चोरी होने का मामला देख रहे हैं, तो सबूत के माध्यम से आप प्राथमिकी दर्ज करा सकते हैं।

स्वदेशी माइक्रो-ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म, कू ऐप के माध्यम से उत्तर प्रदेश पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड (UPPCL) ने घरों में हो रही बिजली चोरी के चलते हो रही असुविधा के लिए माफी माँगी है। साथ ही इसके उपाय के रूप में जनता को अवगत कराते हुए कहा है कि विद्युत चोरी की प्राथमिकी, विभाग द्वारा पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर की जाती है, साथ ही यदि ऐसा कोई प्रकरण आपके संज्ञान में हो तो अवगत कराएं उसकी जांच करवाते हुए सम्बन्धित के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी।

कू ऐप पर शेयर किया गया पहला पोस्ट इस प्रकार है:

महोदय आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद है। आपको सादर अवगत कराना है कि विद्युत चोरी की प्राथमिकी विभाग द्वारा पर्याप्त साक्ष्यों के आधार पर की जाती है, साथ ही यदि ऐसा कोई प्रकरण आपके संज्ञान में हो तो अवगत कराएं उसकी जांच करवाते हुए सम्बन्धित के विरुद्ध आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित की जाएगी। आप शिकायत को विस्तार में साक्ष्यों सहित socialmedialko@uppcl.org ईमेल आईडी पर भेज सकते हैं, तथा reference no- #upn010922d180 को शिकायत में अवश्य लिखें। धन्यवाद

वहीं, एक अन्य पोस्ट के माध्यम से उत्तर प्रदेश पॉवर कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने कहा है: आपको हुई असुविधा के लिए हमें खेद हैं। आपकी बेहतर सहायता हेतु हम शीघ्र ही आपसे संपर्क करेंगे। धन्यवाद! @PVVNLHQ #upn010922

यूपीपीसीएल द्वारा की गई यह एक सार्थक पहल है, जिस पर साक्ष्य एकत्रित कर आप अपनी शिकायत दर्ज करा सकते हैं। विभाग द्वारा उचित जाँच किए जाने के बाद संबंधित व्यक्ति पर आवश्यक कार्यवाही की जाएगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper