अब मुर्शिदाबाद में भी मिले बाल्टी भरकर जिंदा बम, पुलिसबल तैनात

कोलकाता: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों से पहले राज्य में हिंसा की घटनाएं बढ़ती ही जा रहीं हैं। बुधवार देर शाम बीजेपी के सांसद अर्जुन सिंह के घर के पास सीरियल ब्लास्ट की घटना सामने आने के बाद अब मुर्शिदाबाद में भी बाल्टी में भरकर रखे गए जिंदा बम बरामद किए गए हैं। जानकारी के मुताबिक जंगीपुर पुलिस जिले के रघुनाथगंज थाना क्षेत्र से ये बम बरामद किए गए हैं।

ये बम मिलने के बाद से ही मुर्शिदाबाद इलाके में भी तनाव का माहौल है और पुलिस की तैनाती की गयी है। सूत्रों के मुताबिक स्थानीय लोगों ने पुलिस को सूचना दी थी कि रघुनाथगंज पुलिस स्टेशन महालेदरपारा और कृष्णासेल बील्स के तट के इलाकों में जिंदा बम बरामद हुए हैं। ये बम एक आम के बाग़ से बरामद हुए हैं। पुलिस ने मौके पर बम स्क्वायड को बुलाकर इन्हें निष्क्रिय कर दिया है। बात दें कि राज्य मंत्री जाकिर हुसैन पर भी बीते दिनों जंगीपुर रेलवे स्टेशन के पास बम से हमला किया गया था जिसमें वे बुरी तरह घायल हो गए थे।

अर्जुन सिंह के घर पर हुए हमले और मुर्शिदाबाद से मिले बम की घटनाओं पर बंगाल बीजेपी चीफ दिलीप घोषने भी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। घोष ने कहा- जब तक यह सरकार रहेगी तब तक हिंसा खत्म नहीं होगी। इसलिए हम इनको उखाड़ फेंकने के लिए आये हैं। ममता सिम्पथी गेन करने के लिए पीर में प्लास्टर बांध कर घूम कर रही हैं। बता दें कि अर्जुन सिंह के घर के पास हुए बम धमाकों में 3 लोग घायल होने की खबर है। इस घटना पर पश्चिम बंगाल के बीजेपी नेता मुकुल रॉय ने कहा है कि हम घटना के संबंध में चुनाव आयोग से भी जल्द ही शिकायत की जाएगी।

बीजेपी नेता और बंगाल प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय ने भी इस हमले पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा है कि टीएमसी राज्य में हिस्सा का पर्याय बन चुकी है। चुनावों की घोषणा के बाद राज्य में आचार संहिता लागू है लेकिन इसके बावजूद टीएमसी के नेता गुंडागर्दी करने से बाज नहीं आ रहे हैं। संसद अर्जुन सिंह ने टीवी 9 भारतवर्ष से बातचीत में कहा है कि टीएमसी के लोग ही इस हमले के पीछे हैं और करीब 15-20 बम धमाकों की आवाज़ सुनी गयी है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper