अब मोमोज बेच कर गुजारा कर रही ये लड़की, कभी अमिताभ-आलिया संग किया था काम !

कोरोना वायरस जब देश में अपने पैर पसार रहा था तो इसे बस कुछ पल की मुश्किल ही समझा गया था। उस वक्त कोई भी नहीं जान पाया कि इस वायरस के चलते लोग जिंदगी, करियर, रोजगार सब कुछ खो देंगे। साल 2020 में मार्च के बाद से देश में कोरोना को तेजी से बढ़ते देखा गया जिसके बाद लॉकडाउन की घोषणा हो गई थी। इस महामारी का असर बॉलीवुड की फीमेल कैमरापर्सन सुचिष्मिता रोत्रेय पर भी पड़ा जिन्होंने कभी बॉलीवुड के दिग्गज कलाकारों के साथ काम किया था।

हिंदी सिनेमा के सुपरस्टार अमिताभ बच्चन, रणबीर कपूर, वरुण धवन और आलिया भट्ट जैसे सितारों संग काम कर चुकीं सुचिष्मिता आज ओडिशा में मोमोज बेच रही हैं। बड़ी-बड़ी फिल्मों में कैमरे के पीछे काम करनी वाली सुचिष्मिता को अब मोमोज बेचना पड़ रहा है जिससे वो रोज की 300-400 रुपये की कमाई करती हैं।

महामारी ने लाखों लोगों के रोजगार पर असर डाला है और बॉलीवुड भी इससे अछूता नहीं है। हालांकि जहां बड़े सितारों की जिंदगी फिर से वैसे ही शुरू हो गई तो सुचिष्मिता जैसे कलाकारों के लिए हालात एकदम से बदल गए। उनकी माने तो लॉकडाउन से पहले सब कुछ ठीक था। काम भी मिल रहा था और नए अवसर भी आते दिख रहे थे। कोरोना ने उनकी जिंदगी में ऐसा स्पीड ब्रेकर लगाया कि उनके हाथ से काम छूट गया। अब वो मोमोज बेच के अपना पेट पाल रही हैं।

एक चैनल से बात करते हुए सुचिष्मिता ने बताया कि पढ़ाई पूरी करने के बाद वो ओडिया साइन इंडस्ट्री में काम करने लगीं थीं और फिर 2015 में मुंबई आ गई। धीरे धीर काम मिलना शुरू हुआ। इसके बाद 6 साल तक वो असिस्टेंट कैमरा पर्सन के रुप में काम करती रहीं। फिर कोरोना ने दस्तक दी और सबकुछ बदल गया।

अब सुचिष्मिता कटक में ही अपनी मां संग रहती हैं। वो अपने घर में अकेले कमाई करने वाली हैं और उनके पिता का भी निधन हो गया है। इंडस्ट्री में उन्हें काम नहीं मिल रहा है। कोरोना केस की बात करे तो भारत के 6 राज्यों में सबसे ज्यादा इसका असर देखने को मिल रहा है। वहीं महाराष्ट्र में भी आए दिन कोरोना केसेज बढ़ रहे हैं।

Source: Amar Ujala

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper