अब यहां के लोग इन पीले कीड़ों का व्यंजनों में करेंगे उपयोग, यूरोपीय संघ ने दी मंजूरी

वाशिंगटन: पूरी दुनिया में कोरोना वायरस को लेकर कोहराम मचा हुआ है। अब लोग खान-पान पर अलग नजरिए से विचार करने लगे, लेकिन इसी बीच यूरोपीय संघ ने एक ऐसा फैसला लिया है जिसमें एक कीड़े को खाद्य के रूप में मंजूरी दे दी गई है। जानकारी के अनुसार इस कीड़े को येलो ग्रब भी कहा जाता है।

खबर के मुताबिक यूरोपीय खाद्य सुरक्षा एजेंसी (EFSA) ने कहा कि अब पीले रंग के ग्रब कीड़े का उपयोग व्यंजनों में किया जा सकता है। इस कीड़े का इस्तेमाल बिस्किट, पास्ता और ब्रेड बनाने वाले आटे में किया जा सकता है। एजेंसी ने ट्विटर पर भी यह जानकारी दी है। वहीं यूरोप में कीड़े खाने के शौकीन लोगों के लिए यह खबर काफी अच्छी है। EFSA के केमिस्ट और खाद्य वैज्ञानिक एर्मोलास वेवरिस ने रॉयटर्स को बताया कि ये प्रोटीन, वसा और फाइबर से भरपूर हैं।

उन्होंने कहा कि आने वाले वर्षों में यूरोपीय प्लेटों में कई अन्य कीड़े भी हो सकते हैं, इनमें वैज्ञानिक समुदाय की भी बहुत रुचि है। जानकारी के लिए आपको बता दें कि अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड जैसे कई देशों में कीड़ों से बने बर्गर और अन्य खाद्य पदार्थ खाए जाते हैं। अब इसी कड़ी में यूरोप के भी देश जुड़ जाएंगे। खबर के मुताबिक दुनियाभर में कीड़ों का बिजनेस 297 मिलियन यूरो का है और 2024 तक इसके दोगुना होने की संभावना है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper