अमित शाह ने किया मोदी की कर्मठता का जिक्र, तो भावुक हुए प्रधानमंत्री

नई दिल्ली: गुजरात और हिमाचल चुनाव में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किस कदर मेहनत की, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि वह पार्टी की रणनीति और रैलियों पर बातचीत के लिए आधी रात के बाद भी अमित शाह को फोन करते थे। संसदीय दल की पहली बैठक में भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बताया कि प्रधानमंत्री ने चुनाव प्रचार के दौरान बिना थके लगातार काम किया। शाह ने पार्टी के सांसदों को संबोधित करते हुए गुजरात और हिमाचल चुनावों में मोदी द्वारा किए गए अथक प्रयासों का जिक्र किया।

उन्होंने बताया मोदीजी अक्सर रात में दो बजे और उसके बाद तड़के छह बजे फोन किया करते थे। मैं यह समझ नहीं पाता था कि वह आखिर सोते कब हैं। यहां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पार्टी को खड़ा करने में बीजेपी नेताओं के संघर्ष और योगदान को याद करते हुए भावुक हो उठे। जनसंघ और भाजपा नेताओं का नाम लेते हुए उन्हें कम से कम तीन बार अपने आंसू रोकते हुए देखा गया। उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी के समय कांग्रेस पार्टी शिखर पर थी और 18 राज्यों में उसकी सरकार थी, जबकि भाजपा इस समय 19 राज्यों में सत्ता में है। मोदी ने यह विश्वास जताया कि भाजपा आने वाले दिनों में और भी कई राज्यों में सरकार बनाएगी।

पार्टी के सांसदों को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा, ‘इंदिरा के समय कांग्रेस की 18 राज्यों में सरकार थी लेकिन भाजपा और उसके सहयोगियों ने साढ़े तीन सालों में 19 राज्यों में सरकार बना ली है। जल्द ही हम दूसरे राज्यों में भी जीत दर्ज करेंगे।’ बैठक में मौजूद एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि मोदी का इंदिरा के समय की कांग्रेस का जिक्र करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि भाजपा ने न केवल कांग्रेस को सत्ता से हटाया है, बल्कि कई क्षेत्रीय पार्टियों को भी धूल चटा दी, जो राज्यों में काफी मजबूत स्थिति में थीं। मोदी अपने से 14 साल छोटे भाजपा के अध्यक्ष अमित शाह के साथ लंबी ‘दोस्ती’ का जिक्रकर भी भावुक हो गए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा उन्होंने युवा शाह को राष्ट्रीय नेता के तौर पर तैयार किया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि वह पार्टी संगठन में युवा नेताओं को मौका देना चाहते हैं। भावुक मोदी ने कहा गुजरात में भाजपा और जनसंघ के कई नेताओं ने कठिन परिश्रम किया और उन्होंने कांग्रेस के खिलाफ अपना संघर्ष जारी रखा। आज, मैं उन लोगों को मिस कर रहा हूं जो अब इस दुनिया में नहीं हैं।’ भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने कहा, ‘गुजरात में 77 सीटें जीतने के बाद भी यह हास्यास्पद है कि कांग्रेस इसे अपनी नैतिक जीत मान रही है।’ उधर, मीटिंग के बाद केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार ने बताया कि प्रधानमंत्री ने पार्टी नेताओं से कहा है कि वे भाजपा के खिलाफ विपक्ष के दुष्प्रचार से प्रभावित न हों।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper