अयोध्या मामले पर आज फिर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट

दिल्ली ब्यूरो: आज से अयोध्या भूमि विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट फिर से सुनवाई शुरू करेगा। यह सुनवाई अब लगातार होने वाली है। बता दें कि इससे पहले चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा, जस्टिस अशोक भूषण और जस्टिस एस ए नजीर की विशेष पीठ ने 17 मई को हिन्दू संगठनों की तरफ से पेश दलीलें सुनी थीं, जिसमें उन्होंने मुस्लिमों के इस अनुरोध का विरोध किया था कि मस्जिद को इस्लाम के अनुयायियों द्वारा अदा की जाने वाली नमाज का आंतरिक भाग नहीं मानने वाले 1994 के फैसले को बड़ी पीठ के पास भेजा जाए।

गौरतलब है कि अयोध्या मामले में मूल याचिकाकर्ताओं में शामिल और निधन के बाद कानूनी उत्तराधिकारियों द्वारा प्रतिनिधित्व पाने वाले एम सिद्दीकी ने एम इस्माइल फारूकी के मामले में 1994 में आये फैसले के कुछ निष्कर्षों पर आपत्ति जताई थ। उन्होंने पीठ से कहा था कि अयोध्या की जमीन से जुड़े भूमि अधिग्रहण मामले में की गई टिप्पणियों का, मालिकाना हक विवाद के निष्कर्ष पर प्रभाव पड़ा है।

हालांकि हिन्दू संगठनों का कहना है कि इस मामले को सुलझाया जा चुका है और इसे फिर से नहीं खोला जा सकता। शीर्ष अदालत की विशेष पीठ चार दीवानी वादों पर उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर 14 अपीलों पर विचार कर रही है। सुप्रीम कोर्ट के विशेष खंडपीठ को चार सिविल सूट में दिए गए उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ दायर कुल 14 अपीलों में से जब्त कर लिया गया है।

बता दें कि इलाहाबाद हाईकोर्ट के तीन जजों की खंडपीठ ने 2: 1 बहुमत वाले निर्णयों में 2010 में दिया था कि भूमि को तीन पक्षों – सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच समान रूप से विभाजित किया जाए। यह विवादास्पद मामला इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि अगले साल लोकसभा चुनावों को देखते हुए इस मुद्दे को चुनावी माना जा रहा है। इसे साल 2019 में आम चुनावों के लिए बीजेपी के चुनावी विकल्पों में से एक के रूप में माना जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper