अयोध्या में मस्जिद के लिये ट्रस्ट जरूरी: अम्मार रिजवी

लखनऊ: ऑल इंडिया माइनारिटीज फोरम फॉर डेमोक्रेसी के अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश के पूर्व कार्यवाहक मुख्यमंत्री अम्मार रिजवी ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद मुस्लिम पक्ष को अयोध्या में मिलने वाली पांच एकड़ जमीन के लिये ट्रस्ट बनाया जाना जरूरी है।

उन्होंने यहां जारी बयान में कहा कि बनने वाली मस्जिद के निर्माण और देखरेख के लिये ट्रस्ट का होना जरूरी है। रिजवी के इसके लिये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र भी लिखा है। ट्रस्ट होने से कोई नया विवाद नहीं होगा । सालों तक कांग्रेस में रहे अम्मार रिजवी पिछले महीने ही भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुये हैं। उन्होंने अयोध्या मामले में पुनर्विचार याचिका दायर करने से असहमति व्यक्त करने वाले संगठनों व लोगों का स्वागत किया और कहा कि जिन लोगों ने उच्चतम न्यायालय के फैसले को स्वीकार किया है वो बधाई के पात्र हैं।

उन्होंने कहा कि अयोध्या की सीमा में मस्जिद के लिए दी जाने वाली जमीन पर मस्जिद के अलावा एक विश्वविद्यालय और एक मेडिकल कॉलेज भी बनाया जाना चाहिए जिससे इस जमीन का इस्तेमाल लोगों के कल्याण के लिए हो सके। इनका भी संचालन मस्जिद के लिए बने ट्रस्ट से ही होना चाहिए। उन्होंने तर्क दिया कि किसी निजी संस्था या व्यक्ति के जरिये बनने वाली मस्जिद को लेकर फिर ‘मेरी-तेरी’ का विवाद खड़ा हो सकता है जबकि ट्रस्ट के जरिये बनने वाली मस्जिद संपूर्ण मुस्लिम समाज की होगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper