अयोध्या : 28 साल बाद राम जन्मभूमि परिसर में रुद्राभिषेक, PM मोदी को दिया भूमि पूजन के लिए निमंत्रण

नई दिल्ली: रुद्राभिषेक के बाद आज से अयोध्या में बहुप्रतीक्षित राम मंदिर निर्माण का काम प्रारंभ होगा, जिसमें सीमित संख्‍या में लोग शामिल होंगे। इससे पहले एक भव्य भूमिपूजन समारोह आयोजित करने की योजना थी, लेकिन कोरोना संकट के चक्‍कर में इसे टाल दिया गया है। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण से पहले भगवान शिव की आराधना की जा रही है। श्रीराममंदिर निर्माण में कोई विघ्न बाधा न आए इसकी कामना से रामजन्मभूमि परिसर में 28 साल बाद कुबेर टीला स्थित कुबेरेश्वर महादेव का आज सुबह रुद्राभिषेक शुरू हुआ।

श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष व मणिरामदास छावनी के महंत नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी कमल नयन दास रुद्राभिषेक कर रहे हैं। महंत कमलनयन दास रामजन्मभूमि परिसर पहुंच गए हैं। मंदिर मस्जिद विवाद के कारण कई वर्षों तक पूजा नहीं हो सकी थी। शिवलिंग पर जल नहीं चढ़ पाया था। संत-धर्माचार्यों के साथ परिसर में पहुंचे कमल नयन दास ने कहा कि रामजन्म भूमि पर भव्य मंदिर निर्माण की बाधाओं को दूर करने के लिए यह अनुष्ठान हो रहा है। पुरातात्विक कुबेर टीला 67.77 एकड़ भूमि के अंदर मौजूद है।

कुश्ती में जीत के बाद स्थानीय निवासी धनपत राम यादव द्वारा इस विशाल शिवलिंग की स्थापना की गई थी। प्रत्येक वर्ष शिवरात्रि के दिन बरात निकलती थी। मंदिर मस्जिद विवाद के बाद हुए अधिग्रहण के चलते लंबे समय तक कुबेरेश्वर महादेव की पूजा नहीं हो पाई। कमल नयन दास द्वारा आज परिसर के अंदर रुद्राभिषेक किया जा रहा है। वहीं, अयोध्या में राममंदिर निर्माण के लिए शिलान्यास की तैयारी तेज हो गई है। रविवार को दिल्ली में राममंदिर ट्रस्ट के सदस्यों की बैठक हुई जिसमें यह निर्णय लिया गया है कि शिलान्यास के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को अयोध्या आने का आमंत्रण दिया जाएगा।

बैठक में नरेंद्र मोदी से शिलान्यास करवाने के लिए वक्त लेने और आगे की कार्ययोजना पर चर्चा की गई। सूत्रों के मुताबिक शीघ्र ही राममंदिर ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय प्रधानमंत्री मोदी से मिलकर उन्हें राममंदिर के शिलान्यास के लिए अयोध्या आने का निमंत्रण देंगे। उधर, रामनगरी के संत भी पीएम मोदी को बुलावा भेजने की तैयारी कर रहे हैं। राममंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास के उत्तराधिकारी महंत कमलनयन दास ने बताया कि अयोध्या की संतों की तरफ से शीघ्र ही पीएम मोदी को शिलान्यास के लिए अयोध्या आने का बुलावा भेजा जाएगा, अभी तारीख तय नहीं हुई है। इसकी तैयारी शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि इन दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कोविड-19 के प्रकोप के कारण किसी भी कार्यक्रम में भाग नहीं ले रहे हैं।

मी़डिया से बात करते हुए महंत कमल नयन दास ने कहा, ‘रुद्राभिषेक का बहुत बड़ा महत्व है। जब तक भगवान शिव की अराधना नहीं की जाएगी, तब तक इच्छित फल नहीं मिलेगा। हर कार्य के प्रारंभ में शिव जी की पूजा की जाती है। भगवान राम को भी जब लंका पर चढ़ाई करनी हुई तो पहले रामेश्वर की स्थापना की। इसलिए हम भी भगवान शिव की पूजा करेंगे, रुद्राभिषेक करेंगे।’ वहीं भूमि पूजन के सवाल पर उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से कह दिया गया है। उनकी भी आने की मंशा थी, लेकिन तब तक ये महामारी जिसे कोरोना कहते हैं आ गई। जिससे काम रोक दिया गया। हम प्रयास में हैं कि जल्द से जल्द काम प्रारंभ करेंगे। प्रयास ये है कि 2022 की जो रामनवमी है वो भगवान राम वहीं मनाएं। पूजा-पाठ इत्यादि वहां चल रहा है। मंदिर का प्रारूप पहले से तय है। वो श्रद्धालुओं को दिखाया गया है, वो ही बनेगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper