अरविंद राठी के आते ही जेल में बढ़ी गोलबंदी

देवरिया: माफिया अरविन्द राठी के बागपत से जिला कारागार पहुंचते ही जेल में गोलबंदी बढ़ गई है। जेल में बंद अतीक अहमद समेत पूर्वांचल के माफिया से अरविन्द की तनातनी रही है। दोनों खेमा एक दूसरे के आमने-सामने आने से कतरा रहे हैं। जेल प्रशासन भी इसे लेकर चौकन्ना हो गया है। अरविंद को पुराने बैरक में रखा गया है, जहां दो बंदी रक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है।

बागपत निवासी अरविन्द राठी हत्या के आरोप में जेल में बंद है। वह 25 जुलाई की सुबह जिला कारागार लाया गया। उसके आते ही जेल प्रशासन के हांथ-पाव फूल गए। वहीं जिला कारागार में बंद पूर्वांचल के माफिया और उनके गुर्गे एकजुट हो रहे हैं। अरविन्द राठी को भी पूर्वांचल के बदमाशों से भय है। इसके बारे में उसने जेल के अधिकारियों को अवगत करा दिया है। उसने जेल में अलग रखने की इच्छा व्यक्त की थी।

जेल में बंद पूर्व सांसद अतीक अहमद, केडी सिंह समेत अन्य अपराधियों को अलग-अलग बैरक में रखा गया है। जेल में अपराधियों की हर हरकत पर ध्यान रखने के लिए जेल में तैनात नम्बरदारों को विशेष तौर पर सतर्क किया गया है, लेकिन बदमाशों पर कोई फर्क नहीं पड़ रहा है। वहीं डीएम सुजीत कुमार ने जेल में माफिया को देखते हुए जेल की सुरक्षा को लेकर दूसरे जिलों में शिफ्ट होने के लिए जेल आईजी को पत्र लिखा है।

खाली पड़े महिला बैरक में रखा जाएगा अरविंद राठी

जिला कारागार में गोलबंदी को देखते हृुए जेल प्रशासन ने जेल में बंद अरविन्द राठी को एक बंद पड़े बैरक में रखा है। इसमें काफी समय से कोई नहीं था। इसकी सफाई कराने के बाद उसमें अरविन्द को रखा गया है। इसके साथ उसके बैरक की सुरक्षा में दो बंदी रक्षक को लगाया है। जबकि एक नम्बरदार भी अरविन्द पर नजर रखे हुए हैं।

अतीक ने दूसरी जेल में शिफ्ट करने की दी अर्जी

अतीक अहमद ने अरविन्द राठी के आने बाद से बदले माहौल को देखते हुए जेल अधिकारियों को पत्र लिखकर प्रदेश के बागपत, बांदा, फतेहगढ़ समेत एक दर्जन जेलों को छोड़कर दूसरे जेल में भेजने को कहा है।

विशेष निगरानी बढ़ी

जेल अधीक्षक दिलीप पाण्डेय ने बताया है कि जेल में अरविन्द राठी को बैरक में शिफ्ट कर दिया गया है। सभी बदमाशों पर विशेष नजर रखी जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper