अवैध संबंध में बाधक बन रहा था पति, पत्नी ने प्रेमी के साथ मिलकर लगाया ठिकाने

लखनऊ: उत्तर प्रदेष की राजधानी लखनऊ के बंथरा के जंगलों में लगभग एक माह पहले वीरू रावत का शव पड़ा था। उसकी हत्या पत्नी ने अवैध संबंधों में बाधा बनने पर प्रेमी से कराई थी। यह खुलासा शुक्रवार को पुलिस ने वीरू की पत्नी व दो अन्य हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर किया है। पुलिस ने वारदात में इस्तेमाल की गई बाइक, देशी तमंचा व कारतूस बरामद कर आरोपितों की निशानदेही पर मृतक के कपड़ों से भरा बैग भी बरामद कर लिया है। पुलिस ने अजय, दुग्रेश और वीरू की पत्नी सीमा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है, जबकि अभिताब और दोनों सूरज की तलाश अभी जारी है।

पुलिस के मुताबिक उन्नाव जिले के हसनगंज थानान्तर्गत लालपुर निवासी वीरू (22) पत्नी सीमा के साथ हरियाणा के चण्डीगढ़ में रहकर मजदूरी करता था। वीरू गत दिनों हरियाणा से अपने घर आया था और दो फरवरी को घर से हरियाणा जाने के लिए निकला था, लेकिन वहां नहीं पहुंचा। तीन फरवरी की शाम उसका शव बंथरा क्षेत्र स्थित अमावा जंगल में पड़ा मिला। एक मार्च को उसकी शिनाख्त होने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की तो सर्विलांस के माध्यम से उसकी पत्नी सीमा व कुछ अन्य लोग संदेह के घेरे में आए। पुलिस ने गुरुवार शाम राजधानी के पारा स्थित मुन्नू खेड़ा निवासी अजय रावत पुत्र सुखदेव व दुग्रेश रावत पुत्र मुन्ना के अलावा शुक्रवार सुबह सीमा को भी बंथरा के बनी मोड़ पर हिरासत में लिया।

पुलिस ने बताया कि जब तीनों से सख्ती के साथ पूछताछ की गई तो उन्होंने सारी बातें उगल दीं। पूछताछ में सीमा ने बताया कि मुन्नू खेड़ा में उसकी रिश्तेदारी होने कारण वह अक्सर वहां आती-जाती थी, तभी उसके अवैध संबंध वहीं रहने वाले अभिताब उर्फ अल्ताव से हो गए। इसकी जानकारी होने पर वीरू विरोध करने लगा, तो अभिताब और सीमा ने मिलकर उसे रास्ते से हटाने की योजना बना डाली, जिसके तहत सीमा ने वापस लौटते समय वीरू को अजय रावत से पिपरसण्ड रेलवे स्टेशन पर मिलकर उससे 10 हजार रुपये लेते आने को कहा।

इसी वजह से वीरू पिपरसण्ड स्टेशन पर अजय से मिलने के लिए रुक गया। पूछताछ में अजय और दुग्रेश ने बताया कि पिपरसण्ड रेलवे स्टेशन पर पहले से मौजूद गांव के सूरज और सरोजनीनगर के अनौरा निवासी सूरज रावत के साथ एक बाइक लेकर मौजूद थे। वीरू के मिलते ही चारों ने पहले उसे वहीं पर शराब पिलाई, उसके बाद वीरू सहित पांचो लोग उसी बाइक पर सवार होकर बंथरा के सहिजनपुर स्थित अमावा जंगल पहुंचे, जहां फिर वीरू को शराब पिलाई गई।

जब वीरू काफी नशे में हो गया तो अजय ने पीछे से उसके दोनों हाथ पकड़ लिए और दुग्रेश ने उसकी गर्दन पर चाकू से कई वार किए, जिससे वह लहूलुहान होकर गिर गया। इसी बीच अनौरा निवासी सूरज ने वीरू के सिर पर डण्डा मार दिया और बाद में उसे घसीटकर जंगल के अन्दर थोड़ी दूर ले गए, जहां पेट्रोल डालकर जलाने की कोशिश की, लेकिन उसी वक्त वहां से थोड़ी दूर कुछ राहगीर दिखाई पड़ गए। इस वजह से चाकू वहीं पर छिपा दी और वीरू के शव को वहीं छोड़ कर उसका बैग लेकर मोटरसाइकिल से भाग निकले। बाद में वीरू का बैग दुग्रेश के घर के पीछे तालाब में फेंक दिया। फिलहाल पुलिस ने घटना में इस्तेमाल की गई बाइक, एक देशी तमंचा व जिन्दा कारतूस, चाकू और वीरू का बैग बरामद कर लिया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper