असम में जहरीली शराब से मरने वालों की संख्या 90 पहुंची, 50 ज्यादा लोगों की हालत नाजुक

दिल्ली ब्यूरो: जहरीली शराब से असम में अब तक मरने वालों की संख्या 90 तक पहुँचने की सुचना मिल रही है। असम के गोलाघाट जिले के एक चाय बागान में जहरीली शराब पीने से ये घटना घटी है। पहले मौतों की संख्या कम थी लेकिन तीन दिनों के भीतर 90 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है। जिले के एक अधिकारी ने बताया कि पचास से ज्यादा लोगों का फिलहाल अगल-अलग अस्पतालों में इलाज चल रहा है। राज्य सरकार ने मामले की मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए हैं। खबर के मुताविक शराब पीने वाले लोग सालीमीरा चाय बागान में काम करते थे। बीजेपी विधायक मृणाल सैकिया ने बताया कि 150 से ज्यादा लोगों ने शराब पी थी और शराब को एक ही विक्रेता से खरीदी गई थी। पुलिस ने इस घटना के सिलसिले में दो लोगों को गिरफ्तार किया है। असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने घटना की जांच के आदेश दिये हैं. घटना को लेकर जिले के दो आबकारी अधिकारियों को निलंबित कर दिया गया है।

गोलाघाट सिविल अस्पताल में मरीजों का इलाज कर रहे एक डॉक्टर ने कहा कि देशी जहरीली शराब पीने की वजह से ये मौतें हुईं और अस्पताल लाये गये ज्यादातर लोगों की हालत गंभीर थी। मौतों पर चिंता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने अपर असम मंडल आयुक्त जूली सोनोवाल को मामले की जांच करने के निर्देश दिए और एक महीने के भीतर सरकार को इसकी रिपोर्ट सौंपने के लिए कहा है। सोनोवाल ने राज्य के ऊर्जा मंत्री तपन कुमार गोगोई, सांसद कामाख्या प्रसाद तासा और विधायक मृणाल सैकिया को घटनास्थल का दौरा करने को कहा है। असम के आबकारी मंत्री परिमल शुक्ल वैद्य ने विभाग के अधिकारियों की एक टीम को घटना की जांच करने का निर्देश दिया है। वहीं, कांग्रेस विधायक रूपज्योति कुर्मी ने आबकारी मंत्री के इस्तीफे की मांग की है और मुख्यमंत्री से मृतकों के परिजनों को उचित मुआवजा देने का अनुरोध किया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper