अस्पताल में मौत से जंग लड़ रहे पिता को बचाने के लिए 7 साल की बच्ची ने किया कुछ ऐसा, जानकर रो पड़ेंगे

लखनऊ: इंसानियत को तार-तार कर देने वाली खबर महाराष्ट्र के औरंगाबाद से आई है, जहां घाटी अस्पताल में एक मासूम को अपने पिता को बचाने के लिए घंटों एक पैर पर खड़े होते देखा गया. 7 साल की बच्ची के पिता का ऑपरेशन होना था. ऑपरेशन हो चुका था और उसे वार्ड में शिफ्ट कर दिया था. जब मरीज को वहां ड्रिप चढ़ाई जा रही थी तो स्टैंड ना होने की वजह से बच्ची को हाथ में ड्रिप पकड़ाकर खड़ा कर दिया गया था. डॉक्टर बच्ची से बोलकर जाता है कि वो स्टैंड लेने जा रहा है और वो 2 घंटे तक स्टैंड लेकर वापस नहीं आ पाता है.

सरकारी अस्पताल की ये तस्वीर पिछले साल मई की है, लेकिन अब मीडिया की नजर में आई है. 2 घंटे तक बच्ची ड्रिप पकड़े-पकड़े धक जाती है लेकिन डॉक्टर वापस नहीं आ पाते हैं. अस्पताल की लारवाही की ये तस्वीर वायरल होने पर अस्पताल के जांच के आदेश दिये गये जिसके बाद डॉक्टरों ने अपना बचाव करने के लिए बताया कि स्टैंड पहले से ही वहां पर था लेकिन वो छोटा पड़ रहा था. जितनी देर में वो बड़ा स्टैंड लेने के लिए गये उतनी देर में किसी ने बच्ची की तस्वीर खींच ली. अब डॉक्टर झूठ बोल रहे हैं या सच… वो तो आप समझ ही गये होंगे.

आपको बता दें, ये पहले सरकारी अस्पताल की लापरवाही सामने नहीं आई है बल्कि इससे पहले भी कई सरकारी अस्पतालों की असलियत सामने आ चुकी है. गरीबी के चलते कभी मरीजों को जमीन में लेटकर इलाज करवाना पड़ता है तो कभी घंटों लाइन में खड़े-खड़े दिन बीत जाते हैं लेकिन सरकारी अस्पतालों में सुविधाएं देने के लिए सरकार बिल्कुल भी नहीं सोचती है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper