आईआईटी रुड़की के प्रतिनिधिमंडल ने किया लखनऊ मेट्रो का भ्रमण

लखनऊ ब्यूरो। इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी(आईआईटी) रुड़की के पूर्व छात्र संघ कार्यकारी समिति के 30 सदस्यों के एक प्रतिनिधिमण्डल ने गुरुवार को लखनऊ मेट्रो का भ्रमण किया।

लखनऊ मेट्रो रेल कॉरपोरेशन(एलएमआरसी) के प्रबंध निदेशक कुमार केशव ने 30 सदस्यीय प्रतिनिधि मण्डल का लखनऊ के ट्रान्सपोर्ट नगर मेट्रो डिपो में स्वागत किया। प्रबंध निदेशक ने टीम के सदस्यों को बताया कि किस प्रकार तकनीकी रूप से कुशल एवं समर्पित अभियंताओं की टीम ने लखनऊ मेट्रो को केवल तीन वर्ष की अल्प अवधि में शुरू कर इतिहास रच दिया है।

कुमार केशव ने प्रतिनिधि मंडल के सदस्यों से विचार-विमर्श करते समय कहा कि आईआईटी रुड़की तथा देश के अन्य उच्च श्रेणी के इंजीनियरिंग कॉलेजों का ब्रेन ही लखनऊ मेट्रो की सफ लता का कारण है। उन्होंने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं आईआईटी रुड़की का छात्र रहा हूं। कुमार केशव आईआईटी रुड़की तकनीकी संस्थान से स्वर्ण पदक प्राप्त 1981 बैच के सिविल इंजीनियरिंग स्नातक है।

प्रबंध निदेशक ने ट्रान्सपोर्ट नगर डिपो में प्रतिनिधिमण्डल को मेट्रो प्रोजेक्ट की तकनीकी विशेषताओं तथा गुणों के बारे में संक्षेप में बताया। इसके बाद इन लोगों ने वर्कशॉप कम इंसपेक्शन बे-लाइन, डिपो कण्ट्रोल सेण्टर, ऑपरेशन कण्ट्रोल सेण्टर(ओसीसी) आदि का भ्रमण किया। जहां इन सदस्यों को ट्रान्सपोर्ट नगर में उपलब्ध सुविधाओं एवं इंजीनियरिंग सिस्टम के बारे में बताया गया।

इसके बाद प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने ट्रान्सपोर्ट नगर मेट्रो स्टेशन से चारबाग मेट्रो स्टेशन तक मेट्रो की सवारी की। प्रतिनिधिमंडल के सदस्यों ने ट्रान्सपोर्टनगर मेट्रो डिपो, मेट्रो स्टेशनों तथा मेट्रो के अन्दर प्रदत्त की गई विश्वस्तरीय सुविधाओं के देखकर प्रसन्नता जाहिर की तथा लखनऊ मेट्रो को तीन साल की अल्प अवधि में शुरू करने के लिए प्रबन्ध निदेशक एवं उनकी टीम के सदस्यों की प्रसंशा की।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper