आई आई टी (IIT) कानपुर- अफ्रीकी-एशियाई ग्रामीण विकास संगठन (AARDO) का संयुक्त अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम ‘मिटिगेटिंग क्लाइमेट चेंज ह्वाइल हार्नेसिंग रिन्यूएबल एनर्जी ‘ संपन्न हुआ

कानपुर, 25 नवंबर, 2022: आईआईटी कानपुर और अफ्रीकी-एशियाई ग्रामीण विकास संगठन (एएआरडीओ) द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित ‘नवीकरणीय ऊर्जा का उपयोग करते हुए जलवायु परिवर्तन को कम करने’ पर अंतर्राष्ट्रीय प्रशिक्षण कार्यक्रम 24 नवंबर 2022 को आईआईटी कानपुर में आयोजित समापन समारोह के साथ सफलतापूर्वक संपन्न हुआ। प्रशिक्षण कार्यक्रम व्यावहारिक अनुभवों से जुड़े व्याख्यानों से भरा हुआ था, जो 17 नवंबर 2022 को शुरू हुआ और पूरे एक सप्ताह तक चला । इस प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान कई प्रतिष्ठित वक्ताओं को अपने काम को साझा करने और प्रतिभागियों के साथ बातचीत करने के लिए आमंत्रित किया गया था।

समापन समारोह के दौरान उपस्थित गणमान्य व्यक्तियों में प्रो. सत्यकी रॉय, डिजाइन विभाग, आईआईटी कानपुर; प्रो. जे. रामकुमार, समन्वयक, रूरल टेक्नोलॉजी एक्शन ग्रुप (RuTAG) और मेडटेक आईआईटी कानपुर; डॉ. अमनदीप सिंह, इमेजिनियरिंग लेबोरेटरी, आईआईटी कानपुर के आरईओ उपस्थित थे। प्रो. सत्यकी रॉय ने इस मौके पर कहा कि, “यह कार्यशाला एक ऐसे मुद्दे पर है जिससे दुनिया भर के देश निपटने की कोशिश कर रहे हैं। हम आशा करते हैं कि प्रतिभागी कुछ विचारों को अपने-अपने देशों में वापस ले जाने में सक्षम होंगे और इसके आधार पर नीतियां इस तरह से बनाई जाएंगी कि जो कि इस क्षेत्र में सकारात्मक बदलाव लाए।

प्रोफेसर जे. रामकुमार, समन्वयक, रूरल टेक्नोलॉजी एक्शन ग्रुप (RuTAG) और मेडटेक आईआईटी कानपुर ने कहा, “मैं सभी प्रतिभागियों को उनके भविष्य के प्रयासों में सफल होने की कामना करता हूं। उन सभी के साथ इस एक सप्ताह की कार्यशाला ने हमें भी विभिन्न दृष्टिकोणों को जानने-समझने में मदद की है। मुझे उम्मीद है कि व्यावहारिक प्रशिक्षण ने प्रतिभागियों को भी इस विषय को अधिक स्पष्टता के साथ समझने में मदद की है। आइए हम सब मिलकर अपनी सरकारों को स्थायी प्रौद्योगिकी की ओर बढ़ने में सहायता करने का प्रयास करें। मेरी इच्छा है कि हम सभी भविष्य में एक दूसरे के साथ सहयोग करेंगे।

प्रतिभागियों की ओर से, जाम्बिया के श्री लेंगवे फेलिक्स ने कहा, “मैं आयोजकों को अच्छी व्यवस्था करने और पूरे प्रशिक्षण के दौरान हमारी देखभाल करने के लिए धन्यवाद देता हूं। हमें कई नई अवधारणाओं से परिचित कराया गया और हम इसे अपनी सरकारों के साथ साझा करेंगे और एक स्थायी भविष्य की दिशा में एक कदम बढ़ाएंगे।

अफ्रीकी-एशियाई ग्रामीण विकास संगठन (AARDO) एक ग्रामीण-केंद्रित अंतर-सरकारी स्वायत्त संगठन है जो दक्षिण-दक्षिण और त्रिकोणीय सहयोग की भावना का समर्थन करता है और इसके 33 सदस्य देश हैं। यह संयुक्त रूप से आयोजित पाठ्यक्रम सरकारी विभागों, मंत्रालयों, और नीति निर्माण, कार्यान्वयन, योजना और मूल्यांकन में लगे कृषि इंजीनियरों और वैज्ञानिकों के मध्य और वरिष्ठ स्तर के अधिकारियों के लाभ के लिए आयोजित किया गया था। कार्यक्रम का उद्देश्य जलवायु परिवर्तन के प्रभाव से लड़ने के लिए एक उपकरण के रूप में नवीकरणीय ऊर्जा की इंजीनियरिंग का उपयोग करने पर प्रतिभागियों को संवेदनशील बनाना था।

आईआईटी कानपुर के बारे में:

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर, भारत सरकार द्वारा स्थापित प्रमुख संस्थानों में से एक है। 1959 में पंजीकृत, संस्थान को 1962-72 की अवधि के दौरान अपने शैक्षणिक कार्यक्रमों और प्रयोगशालाओं की स्थापना में यू.एस.ए. के नौ प्रमुख संस्थानों द्वारा सहायता प्रदान की गई थी। अग्रणी नवाचारों और अत्याधुनिक अनुसंधान के अपने रिकॉर्ड के साथ, संस्थान को इंजीनियरिंग, विज्ञान और कई अंतःविषय क्षेत्रों में ख्याति के एक शिक्षण केंद्र के रूप में दुनिया भर में जाना जाता है। संस्थान को एनआईआरएफ द्वारा लगातार शीर्ष इंजीनियरिंग कॉलेजों में स्थान दिया गया है। औपचारिक स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के अलावा, संस्थान उद्योग और सरकार दोनों के लिए मूल्य के क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास में सक्रिय रहा है। औपचारिक स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के अलावा, संस्थान उद्योग और सरकार दोनों के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास में सक्रिय योगदान देता है।

अधिक जानकारी के लिए www.iitk.ac.in पर विजिट करें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper