आई वी आर आई द्वारा पोषण और वृक्षारोपण पर राष्ट्रीय अभियान विषय पर कार्यशाला का आयोजन

बरेली 18 सितंबर । कृषि विज्ञान केंद्र बरेली द्वारा इफको के सहयोग से पोषण और वृक्षारोपण पर राष्ट्रीय अभियान विषय पर कृषि विज्ञान केंद्र, आईसीएआर-भारतीय पशु चिकित्सा अनुसंधान संस्थान में एक संगोष्ठी कार्यक्रम आयोजित किया गया। उद्घाटन सत्र में, संयुक्त निदेशक प्रसार शिक्षा, डा. महेश चन्द्र द्वारा कुपोषण से लड़ने की आवश्यकता पर बल दिया और किसान परिवारों के बीच पोषण सुरक्षा और स्वास्थ्य को बढ़ावा देने में पोषक उद्यान के महत्व पर प्रकाश डाला। डॉ बी पी सिंह, प्रधान वैज्ञानिक और प्रमुख, कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा बताया गया कि भाकृअनुप ने आवश्यक खनिज और विटामिन युक्त अनाज, दलहन, तिलहन और सब्जी फसलों की 79 पोषक तत्वों से भरपूर जैव-फोर्टिफाइड किस्मों को विकसित किया और किसानों से देश में प्रचलित कुपोषण से लड़ने के लिए इन उन्नत किस्मों को विकसित करने का आग्रह किया।

तकनीकी सत्र में केवीके विशेषज्ञों ने गेहूं, मक्का, चावल, दलहन, तिलहन और सब्जियों की फसल की बायो-फोर्टिफाइड किस्मों, बायो-फोर्टिफाइड फसलों की प्रथाओं के पैकेज और पोषक-उद्यान के लिए गतिविधियों के कैलेंडर पर व्याख्यान दिया। कार्यक्रम के दौरान माननीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री. नरेंद्र सिंह तोमर से उदबोधन भी यू-ट्यूब के जरिए किसानों को दिखाया गया।

माननीय मंत्री ने अपने संबोधन में भाकृअनुप द्वारा कार्यान्वित प्रमुख योजनाओं नारी और वाटिका की जानकारी दी और किसानों से कुपोषण से लड़ने के अभियान में भाग लेने का आग्रह किया। इसके अलावा, कार्यक्रम में केवीके फार्म में फल/कृषि वानिकी के पौधे लगाए गए और 100 सब्जियों के बीज के पैकेट किसानों को वितरित किए गए। कार्यक्रम में कुल 115 कृषको, इफको और कृषि विज्ञान केन्द्र, आई वी आर आई के कर्मचारियों ने सहभागिता की।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper