आखिर इस होटल में ऐसा क्या है जो करवट बदलते ही दूसरे देश पहुंच जाते है लोग

दुनियाभर के बहुत से होटल अपने खास वजहों से काफी अनोखे और खूबसूरत होते हैं। इन होटलों की बनावट भी बहुत शानदार होती है। बहुत से होटल में कुछ ऐसा होता है जिससे वह पूरे विश्व में प्रशिद्ध हो जाता है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे होटल के बारे में बताने जा रहे है जहाँ बिस्तर पर महज करवट बदलने ही लोग एक देश से दूसरे देश में चले जाते हैं।

आपको सुन कर यह बहुत ही अजीब लगता होगा। आप सोचते होंगे की यह कोई मज़ाक तो नहीं। लेकिन आपको बता दू, यह कोई मजाक नहीं बल्कि पूरी तरह से हकीकत है। इस होटल का नाम अर्बेज होटल है।दरअसल, इस होटल को अर्बेज फ्रांको-सुइसे होटल के नाम से भी जाना जाता है। यह होटल फ्रांस और स्विट्जरलैंड की सीमा पर ला क्योर इलाके में स्थित है।

यह होटल दोनों देशों में आता है। इसलिए इस होटल के दो-दो पते एड्रेस हैं। इस होटल की सबसे खास बात यह है कि फ्रांस और स्विट्जरलैंड की सीमा इस होटल के बीचों-बीच से गुजरती है। ऐसे में इस होटल के अंदर जाते ही लोग एक देश से दूसरे देश में पहुंच जाते हैं। आपकी जानकारी के लिए बता दें, अर्बेज होटल का विभाजन दोनों देशों की सीमा को ध्यान में रखकर किया गया है।

आपको जानकर बहुत ही हैरानी होगी कि इस होटल इस होटल में सभी कमरों को दो हिस्सों में बांटा गया है। आपको सुन कर यह बहुत ही अजीब र लगता होगा। लेकिन ऐसा वास्तव में है। इतना ही नहीं, यहां पर कमरों में डबल बेड कुछ इस तरह सजाए गए हैं कि ये आधे फ्रांस में तो आधे स्विट्जरलैंड में हैं। साथ ही कमरों में तकिए भी दोनों देशो के हिसाब से अलग-अलग लगाए गए हैं।

यह होटल जिस जगह पर बना हुआ है, वो साल 1862 में अस्तित्व में आया था। पहले यहां एक किराने की दुकान हुआ करती थी। बाद में साल 1921 में जूल्स-जीन अर्बेजे नामक शख्स ने इस जगह को खरीद लिया और यहां होटल बना दिया। वो इस तरीके से की यह पूरे विश्व में प्रशिद्ध हो गई है। आपको बता दे, अब यह होटल फ्रांस और स्विट्जरलैंड दोनों देशों की पहचान बन चुका है। बता दें कि पर्यटकों के बीच ये होटल काफी लोकप्रिय है। यहा लोग दोनों देशो का मज़ा लेते है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper