आडवाणी ने गिराया ब्लॉग बम ,पार्टी पर उठाया सवाल

दिल्ली ब्यूरो: बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने पार्टी के तौर तरीके पर सवाल उठाया है। आडवाणी के सवाल से पार्टी में हलचल है। बता दें कि लोकसभा चुनाव से पहले भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी का ब्लॉग बम सामने आया है। आडवाणी ने ‘राष्ट्र सबसे पहले, फिर दल और अंत में मैं’ के शीर्षक वाले ब्लॉग में याद दिलाया कि वो भारतीय जनसंघ और भारतीय जनता पार्टी दोनों के संस्थापक सदस्य हैं। उन्होंने लिखा लगभग पिछले सत्तर साल से वह देश की सेवा कर रहे हैं। उन्होंने लिखा, “बीजेपी ने पार्टी की स्थापना के बाद से ही अपने विरोधियों को कभी दुश्मन नहीं माना। हमसे सहमत न रहने वालों को कभी राष्ट्र विरोधी नहीं कहा।” उन्होंने लिखा कि सत्य, राष्ट्र निष्ठा व लोकतंत्र पर मेरी पार्टी का विकास हुआ है।

आडवाणी ने लिखा, “उनके जीवन का सिद्धांत रहा है पहले राष्ट्र, फिर दल और अंत में मैं। मैंने हमेशा उसपर चलने की कोशिश की है और भारतीय लोकतंत्र की ख़ासियत विविधता और अभिव्यक्ति की आज़ादी रही है।” आडवाणी ने आगे लिखा कि वह खुद को सबसे अंत में रखते हैं और जीवनभर इसी सिद्धांत पर चलते रहेंगे। उन्होंने ब्लॉग में भारतीय जनता पार्टी पर भी अपने विचार व्यक्त किए हैं। आडवाणी ने लिखा, “भारतीय जनता पार्टी देश के हर नागरिक की व्यक्तिगत और राजनीतिक पसंद की आजादी को लेकर प्रतिबद्ध रही है। 6 अप्रैल को पार्टी का स्थापना दिवस है। इस मौके पर भाजपा में हम सभी को पीछे देखने के साथ आगे देखने और अपने अंदर देखने की जरूरत है।”

एक तरह से आडवाणी ने आज बात-बात पर देशद्रोही करार देने वाले नेताओं पर सवाल खड़ा किया है। लोकसभा चुनाव से पहले बीजेपी के वरिष्ठ नेता का यह ब्लॉग बम पार्टी में भूचाल ला सकता है। विपक्षी पार्टियां आडवाणी के इस ब्लॉग का सहारा लेकर पार्टी पर सवाल खड़े कर सकती हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper