आतंकी हमला : 5 जवान शहीद, 4 आतंकी ढेर; सेना का ऑपरेशन जारी

जम्मू। जम्मू-कश्मीर के सुंजवां सैन्य शिविर में एक आतंकी अब भी भीतर मौजूद हैं। उन्हें खोजने के लिए सैनिकों की चार टुकड़ियां बना कर खोज अभियान शुरू किया गया है। सैन्य शिविर में घुसे पांच आतंकियों में से चार को सुरक्षाबलों ने मार गिराया है, जबकि सैनिकों के परिवारों को बचाने के क्रम में पाचं जवान शहीद हो गए हैं। अनुमान है कि एक आतंकी अब भी सैन्य शिविर के भीतर ही छिपा हुआ हैं।

31 घंटों बाद भी आतंकियों को मार गिराने के लिए सेना का ऑपरेशन जारी है। शनिवार सुबह पांच बजे के करीब शुरू हुए इस आतंकी हमले में अबतक दो जवान शहीद हो गए हैं, जबकि 9 के घायल होने की खबर है। इनमें से 2 की हालत गंभीर बताई जा रही है। हमले में सेना के जवान की बेटी भी घायल हो गई है। जानकारी के मुताबिक आतंकियों के पास एके-56 राइफल और भारी मात्रा में हथियार बरामद किए गए हैं। आतंकियों के कब्‍जे में कोई बंधक नहीं है। कुल 26 में से 19 फ्लैट खाली करा लिए गए हैं। सैन्य शिविर के अंदर मौजूद आतंकियों को खदेड़ने के लिए ऑपरेशन तेज कर दिया गया है।

सेना के जवानों की चार टुकड़ियों को सैन्य शिविर के अंदर भेजा गया है। ऑपरेशन के लिए पैरा कमांडो को भी तैनात कर दिया गया है। आइएएफ के पैरा कमांडो को उधमपुर और सरसाव से जम्मू बुलाया गया था। गृह मंत्रालय और रक्षा मंत्रालय पूरी घटना पर नजर बनाए हुए है। इस बीच आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली है। सेना के जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि जैश-ए-मोहम्‍मद के आतंकियों के लिए सर्च ऑपरेशन जारी है। यह ऑपरेशन तब तक जारी रहेगा, जब तक कि सभी आतंकी मारे या पकड़े नहीं जाते। उन्‍होंने अब तक तीन आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि की।

इनके पास से एके56 राइफल और भारी मात्रा में अन्‍य हथियार बरामद हुए हैं। इससे लगता है कि आतंकी किसी बड़ी साजिश को अंजाम देने के लिए आए थे। सुंजवां आतंकी हमले का मास्टरमाइंड रउफ असगर है। रउफ मौलाना जैश-ए-मोहम्मद का चीफ आतंकी मसूद अजहर का भाई है। फरवरी के पहले सप्ताह में रउफ ने भाई मौलाना मसूद अजहर के साथ हिजबुल के चीफ सैयद सलाउद्दीन से मिला था और 9 फरवरी को आतंकी अफजल गुरु की बरसी के दिन दोनों ने हमले को अंजाम देने के लिए मदद मांगी थी।

जम्मू कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को उच्च स्तरीय बैठक कर आतंकी हमले से उत्पन्न हुए हालात की समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने मुठभेड़ में शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की। उन्होंने उनकी वीरता की प्रशंसा की और शोक संतप्त परिवारों के साथ सहानुभूति जताई। उन्होंने घायल सैनिकों के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना की और अधिकारियों को उन्हें सर्वश्रेष्ठ चिकित्सा सुविधाएं प्रदान करने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री को मौके पर चल रहे ऑपरेशन के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने राज्य और सीमाओं के साथ समग्र सुरक्षा की स्थिति की भी समीक्षा की। मुख्यमंत्री ने पुलिस और अन्य सुरक्षा एजेंसियों को आपसी समन्वय बनाकर राज्य में सतर्कता बनाए रखने को कहा। उन्होंने महत्वपूर्ण प्रतिष्ठानों, हवाई अड्डों, बस अड्डों और अन्य भीड़ भरे स्थानों पर सख्त निगरानी रखने का निर्देश दिया।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper