आतंकी हमले पर बोले तोगड़िया, कहा- कश्मीर में सेना को दी जाए खुली छूट

चंडीगढ़: विश्व हिंदू परिषद (बीएचपी) के अंतरराष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष प्रवीण तोगड़िया ने कहा जम्मू-कश्मीर में दिक्कतें पैदा करने वालों से निपटने के लिए सेना को खुली मिलनी चाहिए। तभी इस समस्या का कोई समाधान निकल सकता है। उन्होंने कहा कि अगर पाकिस्तान कश्मीर मसले में हस्तक्षेप करना बंद नहीं करता, तो उसके ऊपर हमला कर देना चाहिए। अखिर हम जवान तो गंवा ही रहे हैं। तोगड़िया ने यहां बीएचपी कार्यकर्ताओं की एक सभा को संबोधित करते हुए यह टिप्पणी की।

उन्होंने कहा कश्मीर में सेना के जवान तक सुरक्षित नहीं हैं। ऐसे में आम लोगों की सुरक्षा की बात करने का क्या मतलब है। सैनिकों पर पथराव करने वालों पर सेना को बमबारी करने का आदेश दिया जाए। सेना को समस्या से निपटने के लिए खुली छूट देनी चाहिए। तोगड़िया ने 1971 के भारत-पाक युद्ध की तरफ इशारा करते हुए तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के साहसी नेतृत्व की तारीफ की। उन्होंने कहा मैंने कहा है कि यह पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध करने का समय है।

अगर उस वक्त इंदिरा गांधी पाकिस्तान को दो हिस्सों में बांट सकती हैं और 90,000 से अधिक पाकिस्तानी सैनिकों को युद्धबंदी बना सकती हैं तो अब यह पाकिस्तान को पांच हिस्सों में तोड़ने का और एक लाख पाक सैनिकों को पकड़ने का समय है। तोगड़िया ने कहा मैं यह कह रहा हूं कि पाकिस्तान के कारण हर दूसरे दिन हमारे सैनिक मर रहे हैं। सेना को पाकिस्तान के खिलाफ युद्ध की घोषणा करने और उस देश को पांच हिस्सों में बांटने का आदेश दिया जाना चाहिए।

उन्होंने जम्मू-कश्मीर विधानसभा में नेशनल कांफ्रेंस के एक वरिष्ठ विधायक की तरफ से पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करने से जुड़ा सवाल करने पर कहा, उन्हें गिरफ्तार किया जाना चाहिए और अदालत उन्हें फांसी की सजा सुनाए ताकि आगे इस देश में कोई भी पाकिस्तान के समर्थन में नारेबाजी करने की जुर्रत न कर सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper