आने से पहले ये 4 संकेत भेजते हैं यमराज, आपको तो नहीं दिखा कुछ ऐसा?

यह तो प्रकृति का सबसे बड़ा नियम है कि जो इस धरती पर आया है उसे एक न एक दिन इस दुनिया से जाना ही है। किसी महिला के गर्भ में पल रहे बच्चे के जन्म से नौ महीने पहले ही उसके इस दुनिया में आने की खबर मिल जाती है।

लेकिन क्या कभी मौत के संकेत मिलते है, जिससे यह अंदाजा लगाया जा सके कि हमारी मौत करीब है और हमारे प्राण लेने के लिए यमराज हमारे आस-पास मंडरा रहे हैं ? शिवपुराण के मुताबिक मौत से कुछ महीने पहले कई ऐसे मृत्यु के संकेत हमें दिखाई देने लगते हैं, जो इस ओर इशारा करते हैं कि यमराज हमसे ज्यादा दूर नहीं है।
  • अगर किसी को पानी, शीशे और तेल में अपना परछाईं या छाया दिखना बंद हो जाए तो उसकी मौत 6 महीने के अंदर हो सकती है।
  • अगर किसी व्यक्ति की जीभ अचानक से सूझ जाएं या फिर दांतों से पस निकलने लगे तो. ये संदेश है कि 6 महीने से ज्यादा जिंदगी नहीं है।
  • अगर किसी व्यक्ति को सब काला नजर आने लगे तो ये संदेश हैं कि मौत नजदीक है।
  • आसमान में अगर ध्रुव तारे का नजर आना बंद हो जाए तो ये भी मौत के नजदीक होने का संकेत है।

पुराण भी मृत्यु के विषय में बहुत कुछ कहते हैं। यह भी सत्य है कि पुरातन काल से मानवों और राक्षसों ने भगवान को खुश करके मृत्यु पर विजय प्राप्त करने की भरकस कोशिश की है, लेकिन वे यह करने में कामयाब नहीं हो पाए. क्योंकि धरती पर जीवन का मृत्यु ही एक मात्र सत्य है। .

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper