आपकी हथेली में अगर है ये लकीर, तो खुद घर चलकर आएगी सरकारी नौकरी

नई दिल्ली: बहुत से युवा अपने अपने मन में गवर्मेंट जॉब की इच्छा रखते हैं। इसके पीछे यह कारण माना जाता हैं की गवर्मेंट जॉब में भविष्य सुरक्षित होने के साथ साथ तरक्की के मौके भी मिलते हैं। बहुत से लोग सरकारी नौकरी पाने के लिए प्रयासरत रहते हैं, परन्तु कुछ के ही हाथ सरकारी नौकरी लगती हैं। यह भी बताया गया हैं की यदि किसी के योग बन रहे हैं तो सरकारी नौकरी आसानी से मिल जाती हैं।

नही समझे ? तो चलिए आपको समझाते हैं. हस्तरेखा ज्योतिष में बताया गया हैं की कुछ ऐसे योग होते हैं जिनमें किसी व्यक्ति की सरकारी नौकरी लग सकती हैं, जो इन योग को पहचान लेता हैं उस व्यक्ति को पता लग जाता हैं की उसके नसीब में सरकारी नौकरी हैं भी या नही।ध्यान रखने वाली बात यह हैं की जहाँ लडकियो के बाए हाथ के अध्यन से सरकारी नौकरी के योग को पहचाना जा सकता हैं, वही लडको के दाए हाथो के अध्यन से ऐसे योग की पहचान की जा सकती हैं।

रिंग फिंगर के नीचे बना सूर्य पर्वत जिन लोगो की हथेली में उभरा हुआ होता हैं तथा बिना कटे कोई रेखा इस पर्वत पर सीधी हो तो ऐसे लोगो को गवर्मेंट जॉब मिलने की उम्मीद बढ़ जाती हैं। वही इंडेक्स फिंगर के नीचे बने गुरु पर्वत पर सूर्य पर्वत से चलकर कोई रेखा आया रही हैं तो उसके लिए भी सरकारी नौकरी के चांस ज्यादा हैं।ऐसे शख्स जिनकी हथेली में उठे हुए गुरु पर्वत पर बहुत सी सीधी रेखाए आ रही हो तो गवर्मेंट जॉब पाने के लिए यह एक अच्छा योग हैं।

अब बात उन लोगो की करते हैं जिनकी हथेली में गुरु पर्वत की ओर भाग्य रेखा से कोई शाखा निकलकर आ रही हैं, उनको बड़ा भाग्यवान समझा जाता हैं और ऐसे लोगो को ना केवल सरकारी नौकरी बल्कि एक ऊँचा पद भी प्राप्त हो सकता हैं। जिस शख्स की हथेली में भाग्य रेखा से निकलकर कोई शाखा सूर्य पर्वत की तरफ बढ़ रही हैं, यह सरकारी नौकरी मिलने का सबसे अच्छा योग हैं ।

ध्यान रहे , इस हस्तरेखा विज्ञान में हथेली की बनावट के साथ सथ सभी रेखाओं का गहनता से अध्यन आवश्यक हैं ।हमने जो ये योग बताये हैं ये रेखाओं और हथेली की बनावट के आधार पर चेंज हो सकते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper