आप के 20 विधायकों पर लटकी तलवार

नई दिल्ली: दिल्ली में आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों पर लाभ के पद मुद्दे पर लटक रही तलवार अब एक बार फिर चर्चा में दिखाई दे रही है। कांग्रेस दिल्ली अध्यक्ष अजय माकन दिल्ली के वरिष्ठ नेताओं व पूर्व विधायकों के साथ मुख्य चुनाव आयुक्त सहित अन्य चुनाव आयुक्तों से मिले और आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों के खिलाफ चल रहे लाभ के पद की कार्यवाही में निणय लेकर उनको अयोग्य ठहराने की मांग को लेकर एक ज्ञापन सौंपा है।

मुख्य चुनाव आयुक्त से मिलकर कांग्रेस दिल्ली अध्यक्ष अजय माकन ने कहा कि चुनाव आयोग जल्द से जल्द आम आदमी पार्टी के 20 विधायकों के खिलाफ चल रहे लाभ के पद की कार्यवाही में निणय लेते हुए उनको अयोग्य ठहराए। आप के २० विधायकों ने मंत्री तुल्य सुविधाएं लेकर लाभ का पद 13 मार्च 2015 को ग्रहण किया था, परंतु वे आज भी विधायक बने हुए हैं, जबकि लाभ के पद पर रहने के कारण उनकी विधानसभा से सदस्यता रद्द हो जानी चाहिए थी।

माकन ने बताया कि चुनाव आयोग ने प्रतिनिधिमंडल को आप के 20 विधायकों के खिलाफ चल रहे लाभ के पद के मामले में जल्द निणय लेने का आश्वासन दिया। अजय माकन ने कहा कि पार्टी के 20 विधायकों ने मंत्री तुल्य सुविधाएं जैसे कार्यालय, फर्नीचर तथा सरकारी गाड़ी सहित अन्य सुविधाएं लेकर लाभ का पद 13 मार्च 2015 को गृहण किया था, जबकि कोई भी विधायक यदि लाभ का पद लेता है तो उसकी विधानसभा से सदस्यता तुरंत रद्द हो जानी चाहिए।

परंतु आप के 20 विधायक आज भी विधायक बने हुए हैं तथा विधायकों को मिलने वाली सारी सरकारी सुविधाऐं ले रहे हैं। अजय माकन ने कहा कि इन 20 सीटों पर चुनाव के लिए कांग्रेस पार्टी एकदम तैयार है और यदि इन विधायकों को अयोग्य ठहराकर चुनाव आयोग वहां चुनाव नही कराता है तो कांग्रेस पार्टी सड़क पर आंदोलन करेगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper