आप भी सुबह खाली पेट चाय पीते हैं तो ये पोस्ट आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है, पढ़िएगा ज़रूर

लखनऊ: दोस्तों ज्यादातर सुबह-सुबह सभी को चाय पीने की आदत होती है। वैसे तो इस आदत में कोई बुराई नहीं है लेकिन अगर आप खाली पेट चाय पीते हैं तो इससे आपको काफी समस्या हो सकती है। यहाँ हम आपको बताने वाले है खाली पेट चाय पीने के क्या-क्या नुकसान हो सकते हैं। जैसे कि खाली पेट चाय पीने से बॉडी में एसिड की मात्रा काफी बढ़ जाती है। यहां तक कि आयुर्वेद में चाय के साथ एक दो बिस्कुट लेने की सलाह दी जाती है।

इसके अलावा खाली पेट चाय पीने से और भी काफी सारे नुकसान हैं। जिनके बारे में आज हम आपको बताएंगे सबसे पहला नुकसान इससे पुरषों में प्रोस्टेट कैंसर होने की संभावना बढ़ जाती है। इसीलिए अगर आप इस कैंसर से बचना चाहते हैं तो कभी भी खाली पेट चाय का सेवन ना करें। इसके अलावा खाली पेट दूध वाली चाय पीने से ज़्यादा थकावट महसूस होती है। इसके साथ ही मिजाज़ में काफी चिड़चिड़ापन भी आ जाता है। अदरक वाली चाय सुबह खाली पेट पीने से आपको गैस की समस्या भी हो सकती है।

वही खाली पेट अगर आप ब्लैक टी पीते हैं तो यह आपके पेट को फुलाती है और इससे आपका पेट धीरे-धीरे बाहर निकल आता है। अगर आपको पता नहीं है तो हम आपको बता रहे हैं कि खाली पेट चाय पीने से शरीर में प्रोटीन और बाकि न्यूट्रिएंट्स का अब्जॉर्ब्शन कम हो जाता है। चाय में टेनिन होता है जिसकी वजह से खाली पेट चाय पीने से आपको उल्टी जैसा भी महसूस हो सकता है। खाली पेट चाय पीने से अल्सर होने की संभावना भी अधिक बढ़ जाती है। जब खाली पेट चाय पीने के इतने सारे नुकसान हैं तो हमें अपने जीवन के साथ खिलवाड़ नहीं करना चाहिए।

इसीलिए दोस्तों आप खाली पेट चाय कभी भूल से भी ना पिएं आप हमेशा यही कोशिश करें कि चाय के साथ आप कोई बिस्किट या फिर टोस्ट अवश्य लें।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper