आम्बेडकर महासभा ने दिया मुख्यमंत्री को दलित मित्र सम्मान

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बाबा साहेब भीमराव आंबेडकर की 127वीं जयंती के अवसर पर शनिवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल रामनाईक हजरतगंज चौराहे पर स्थित डा. भीमराव रामजी आंबेडकर प्रतिमा पर पुष्पांजलि अर्पित की। इसके उपरान्त अम्बेडकर महासभा में मुख्यमंत्री और राज्यपाल पहुंचे।

आम्बेडकर महासभा ने दलित मित्र सम्मान से सम्मानित किया। आंबेडकर महासभा हजरतगंज में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने डा. भीमराव रामजी आंबेडकर प्रतिमा पर पुष्पांजलि कर श्रद्धासुमन अर्पित की। इसके साथ ही उन्हें दलित मित्र की कुर्सी पर भी बैठाया गया। इस मौके पर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक और महासभा के अध्यक्ष लाल जी निर्मल भी मौजूद रहे।

आंबेडकर महासभा के बाहर से आंबेडकर महासभा के हरिश्चंद्र, एस आर दारापुरी, एन एस चौरसिया और गजोधर प्रसाद ने विरोध किया। इसके बाद पुलिस ने इन सभी को हिरासत में लिया। यह लोग भी अंबेडकर महासभा सदस्य हैं और सीएम योगी को दलित मित्र सम्मान देने का विरोध कर रहे थे।
अम्बेडकर महासभा के कार्यक्रम में मौजूद लोगों को सम्बोधित करते हुए राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि जिस रास्ते पर सरकार चल रही वह सबको साथ लेकर चलने वाला रास्ता है। इससे विकास होगा। उन्होंने कहा कि बाबा साहब का देश के प्रति बहुत लगाव था। आम्बेडकर के प्रति पूरा भारत कृतज्ञ है। बाबा साहब के विचार आम आदमी तक नहीं पहुच पाते। इससे लोग सोचते हैं कि बाबा साहब किसी विशेष के हैं।

मुख्यमंत्री योगी ने कहा कि बाबा साहेब आंबेडकर ने सामाजिक और आथिज़्क स्थिति से न्याय दिलाया। साथ ही उन्होंने कहा कि बाबा साहेब ने गरीब परिवार में पैदा होने के बाद भी उच्च शिक्षा हासिल की। उन्होंने कहा कि सभी जानते हैं भीमराव आंबेडकर ने किन परिस्तिथियों में जीवन शुरू किया था। भीमराव आंबेडकर ने अपना जीवन गरीबों को समर्पित किया। अपने बल पर उन्होंने उच्च से उच्चतम शिक्षा हासिल की। योगी ने कहा कि दलित मामलों के त्वरित निस्तारण के लिए 25 नए कोटज़् गठित करने जा रहे हैं।

उन्होंने कहा कि मोदी ने भव्य स्मारक का लोकार्पण किया, बाबा साहब से जुड़े पांच स्थानों को पंच तीर्थ के रूप में मोदी जी ने विकसित किया। 35 करोड़ गरीब दलित वंचितों के बैंक अकाउंट केंद्र सरकार ने खुलवाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाबा साहब को आजादी के बाद सही मायने में सम्मान देने का काम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किया है। 8 लाख से ज्यादा गरीब वंचित दलितों को यूपी सरकार ने आवास दिया। 2 अप्रैल की घटना को लेकर कहा गया है कि निर्दोष को छेड़ा, परेशान नहीं किया जाएगा, जिसने आगजनी की है उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। कमीशन बैठाया जाएगा कि कैसे मुसहर और दलित, पिछड़े गरीबों को कैसे सरकारी सुविधाओं का लाभ दिया जाए।

उन्होंने कहा कि बालिकाओं की शादी के लिए ढाई सौ करोड़ की व्यवस्था बजट भी की। हम लोगों से पहले के लोगों ने अनुसूचित जाति जनजाति के एक तिहाई बच्चों को स्कॉलरशिप से वंचित रखा। हम समय से स्कॉलरशिप उपलब्ध करा रहे हैं। पूर्व दशम छात्रवृत्ति में आय सीमा 2 से बढ़ाकर ढाई लाख की है। 2200 से बढ़ाकर 3 हजार छात्रवृत्ति की जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper