आम आदमी पार्टी ने लांच की ‘अमित शाह का उल्टा चश्मा डाॅट काॅम’ वेबसाइट, झाड़ू घूमाने पर दिखाई देगा विकास कार्य

आम आदमी पार्टी ने भारतीय जनता पार्टी द्वारा फैलाए जा रहे झूठ का जवाब देने के लिए व्यंग्य अभियान की शुरूआत की है। पार्टी ने इस अभियान के जरिए गृहमंत्री अमित शाह जी द्वारा मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सरकार में कोई विकास कार्य नहीं करने के लगाए गए आरोपों का व्यंगात्मक अंदाज में जवाब दिया है। पार्टी ने ‘www.amitshahkaultachashma.com’ नाम से एक वेबसाइट लांच किया है। इसमें पार्टी ने दिल्ली के लोगों को बताने की कोशिश की है कि किस तरह अमित शाह जी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल सरकार के किए गए ऐतिहासिक विकास कार्यों को जानबूझ कर देखना नहीं चाहते हैं और उसकी अनदेखी करते हुए दिल्ली की जनता का अपमान कर रहे हैं। वेबसाइट पर पार्टी ने स्कूल, अस्पताल, रैन बसेरा, स्ट्रीट लाइट की दिल्ली में पहले के हालात और केजरीवाल सरकार आने के बाद बदले हालात की 7 तश्वीरें जारी की है। आप सरकार से पहले और बाद की तश्वीरों में काम का अंतर साफ दिख रहा है। वेबसाइट पर जाकर इन तश्वीरों को कोई भी वाइप कर के देख सकता है।

आम आदमी पार्टी ने चुनाव के आखिरी चरण के प्रचार में व्यंग्यात्मक अभियान की शुरूआत करते हुए कहा कि अमित शाह जी को अपने उल्टे चश्मे से देखने में दिक्कत हो रही है। तभी तो उन्हें दिल्ली में लगे सीसीटीवी कैमरे नहीं दिखाई दिए। इसीलिए वह एक नहीं, बल्कि दो बार सीसीटीवी कैमरे पकड़े गए। अमित शाह जी ने कहा था कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में कोई काम नहीं हुआ। इतना ही नहीं, अमित शाह जी ने झूठे वीडियो भी दिखाए। इसलिए आम आदमी पार्टी ने सोचा कि क्यों न दिल्ली के लोगों को अमित शाह जी का उल्टा चश्मा साफ करने का मौका दें। पार्टी ने दिल्ली के लोगों से अपील की कि ‘www.amitshahkaultachashma.com’ पर जाएं और अमित शाह जी का उल्टा चश्मा साफ कर उन्हें दिल्ली में हुए काम को दिखाने में मदद करें। पार्टी का कहना है कि कोई भी इस वेबसाइट पर जा सकता है और उपलब्ध सामग्री को देख सकता है। आप इस व्यंग्य अभियान को सोशल मीडिया के माध्यम लोगों तक पहुंचाएगी।

इस वेबसाइट पर मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के सरकार से पहले और सरकार में आने के बाद की 7 तश्वीरें डाली गई हैं। इन तश्वीरों के जरिए आम आदमी पार्टी ने यह बताने की कोशिश की है कि आप सरकार के सत्ता में आने से पहले दिल्ली की स्थिति कैसी थी। सात तश्वीरों में एक मोहल्ला क्लिनिक, एक रैन बसेरा, एक खेल का मैदान, सरकारी स्कूलों के तीन चित्र और स्ट्रीट लाइट की एक तस्वीर शामिल है। पार्टी का कहना है कि पिछले कुछ हफ्तों से देश के गृहमंत्री अमित शाह जी भाजपा का चुनाव अभियान की कमान संभाले हुए हैं। इस पूरे अभियान के दौरान भाजपा ने वादों को पूरा न करने के लिए आम आदमी पार्टी को जिम्मेदार ठहराया है। जबकि सच्चाई यह है कि आम आदमी पार्टी ने न सिर्फ 2015 में वादा किए गए 70 बिंदुओं के घोषणा पत्र को पूरा किया है, बल्कि उससे भी अधिक कार्य किया है।

इस व्यंग्य अभियान का उद्देश्य यह है कि भाजपा आम आदमी पार्टी सरकार के विकास कार्यों को देखने में असमर्थ है। इस अभियान से यह भी पता चलता है कि आम आदमी पार्टी के किए गए कार्यों के बावजूद भाजपा ने आम आदमी पार्टी के खिलाफ सिर्फ नकारात्मक प्रचार अभियान पर ध्यान केंद्रित किया है। वेबसाइट पर जारी तश्वीरों के जरिए आम आदमी पार्टी ने बताया है कि कैसे आप सरकार ने दिल्ली सरकार के स्कूलों को बेहतर बुनियादी ढाँचा देकर हैपीनेस करिकुलम और अन्य नवीन पाठ्यचर्याओं को शामिल कर एक अच्छा शैक्षिक वातावरण बनाने में कड़ी मेहनत की है। इन तश्वीरों के जरिए पार्टी ने यह भी बताया है कि किस तरह से मोहल्ला क्लिनिक की एक पहल ने दिल्ली के स्वास्थ्य ढांचे को बदल दिया है। मोहल्ला क्लिनिक पहल न केवल दिल्ली में बहुत लोकप्रिय है, बल्कि भारत के विभिन्न अन्य राज्य भी मोहल्ला क्लिनिक की अवधारणा को अपना रहे हैं। पार्टी ने दिल्ली को ब्लैक स्पाॅट से मुक्त बनाने के लिए स्ट्रीट लाइट की पहल का भी काम किया है। यह पहल महिलाओं की सुरक्षा के लिए है। अंत में, पार्टी ने इस बात को भी चित्रित किया है कि कैसे आप सरकार ने रैन बसेरों को विकसित किया है, जहां गरीब और सड़क पर रहने वाले लोग कड़ाके की ठंड या अन्य परिस्थितियों में रात बिता सकते हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper