आम सहमति से मंदिर का निर्माण हो: नकवी

लखनऊ ब्यूरो। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी मंगलवार को राजधानी में लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान समारोह में शामिल होने से पहले पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि अयोध्या में राम मंदिर निर्माण सबकी सहमति से होना चाहिए। ये सबके मन में है और बीजेपी भी यही चाहती है। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में है। हम सबको उनके निर्णय का इंतजार करना चाहिए, वैसे सबसे आदर्श यह होगा कि आम सहमति से राम मंदिर का निर्माण हो।

नकवी ने आगे कहा कि हम तो चाहते हैं कि आज ही से राम मंदिर का निर्माण शुरु हो जाए, लेकिन कोई भी काम संवैधानिक प्रक्रिया के तहत होता है। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि जल्द से जल्द राम मंदिर के मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आएगा।

असदुद्दीन ओवैसी पर हमला करते हुए मुख्तार नकवी ने कहा कि जहरीली जुबान की जंग चुनावों से पहले शुरू हो गई है, क्योंकि ओवैसी जैसे नेता जहरीली जुबान के जागीरदार हैं। केंद्रीय मंत्री ने दावा किया कि आज समाज का कोई हिस्सा नेताओं के इन बयानों को स्वीकार नहीं करता।

नक़वी ने कहा कि समाज का कोई हिस्सा नेताओं के इन बयानों को स्वीकार नहीं करता है। गौरतलब है, कि हापुड़ में हुई घटना के बाद ओवैसी ने कहा था, कि मुस्लमानो को मुजाहदीन की लडऩा चाहिए।

अब्बास नक़वी आपातकाल के दौरान जेल में लोकतंत्र सेनानियों के सम्मान समारोह शामिल होने के लिए लखनऊ पहुंचे थे। नकवी राजधानी के विश्वश्रैया प्रेक्षागृह में लोकतंत्र सेनानियों को सम्मानित कियाा। सम्मान समारोह में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय, कैबिनेट मंत्री बृजेश पाठक, भाजपा के वरिष्ठ नेता लाल जी टण्डन, मंत्री गोपाल टण्डन, बलदेव सिंह अलख, स्वाती सिंह और राज्यसभा साँसद अशोक बाजपाई भी शामिल हुए।

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper