आरएसएस, विहिप और बीजेपी की साजिश है बुलंदशहर हिंसा: NCP

लखनऊ: राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि बुलंदशहर की हिंसा और इंस्पेक्टर की हत्या के पीछे राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ, विश्व हिंदू परिषद और भारतीय जनता पार्टी की साजिश है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ रमेश ​दीक्षित ने कहा कि बुलंदशहर में अल्पसंख्यकों के विशाल लेकिन शांतिपूर्ण सम्मेलन से बौखलाई ताकतों ने साजिश रची थी. योगी राज में गौ-गुंडों के हौंसले बुलंद हैं. उन्होंने मांग की कि गौरक्षा के नाम पर बने हथियारबंद दस्तों से पूरे प्रदेश के अमन और चैन खतरे में है. उन्होंने तत्काल ऐसे लोगों पर कार्रवाई और इन्हें प्रतिबंधित किये जाने की मांग की.

डॉ. रमेश दीक्षित ने कहा कि सूबे के सीएम राजस्थान में मंदिर बनवा रहे हैं. प्रदेश का गृह विभाग उनके पास है और प्रदेश में आए दिन सांप्रदायिक तनाव पैदा किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि आम लोगों का सरकार के इकबाल से यकीन हट गया है. पूरे प्रदेश में गौ-गुंडों का राज है, जिन्हें सरकार और संघ का अपरोक्ष समर्थन मिला हुआ है.

प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि यूपी ही नहीं पूरे देश को सांप्रदायिक हिंसा में झोंककर सरकारों के संरक्षण में हिंदुत्ववादी संगठन देश में गृह युद्ध जैसे हालात पैदा कर रहे हैं. उन्होंने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार सिंह की हत्या को षड्यंत्र करार देते हुए कहा कि अब दुस्साहसिक तरीके से पुलिस को दौड़ा-दौड़ा कर मार रहे है और उनका विडियो बना कर अपलोड कर रहे है, इन लोगो को योगी-मोदी सरकार सहित संघ का खुला संरक्षण प्राप्त है.

रमेश दीक्षित ने यह भी मांग की, कैसे एक कस्बे में इतने बड़े पैमाने पर मृत जानवर को लाकर लटकाया और फिर उसको विहिप और बजरंग दल के लोग ही पहले देख लेते हैं. यह पूरी स्क्रिप्ट ही पूर्व नियोजित सी लगती है, जिसको सरकार के इशारे पर गढ़ा गया था. मामले में एनसीपी ने प्रदेश के राज्यपाल से इस मामले में तुरंत हस्तक्षेप करने की मांग की ताकि प्रदेश में कानून का राज बहाल हो सके.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper