आरटीआई में हुआ चौंकाने वाला खुलासा, पीएम मोदी के गोद लिए गांव में खर्च नहीं हुआ एक भी रुपया

दिल्ली ब्यूरो: एक चौकाने वाली जानकारी सामने आयी है। आरटीआई से मिली जानकारी के मुताविक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिन गांवों को गोद लिया था उनपर सांसद निधि से एक रुपया भी खर्च नहीं किए गए। जिला ग्राम्‍य विकास अभिकरण की ओर से जारी पत्र सोशल मीडिया पर वायरल होने से विपक्ष ने इस बात मुद्दा बनाकर बीजेपी और पीएम मोदी पर हमला बोला।

कन्‍नौज के रहने वाले अनुज वर्मा ने प्रधानमंत्री के गोद लिए गांवों के बारे में सूचना के अधिकार अधिनियम के तहत जानकारी मांगी थी। जिला ग्राम्‍य विकास अभिकरण के परियोजना निदेशक की ओर से 30 जून को भेजे गए पत्र में बताया गया है कि गोद लिए गांव जयापुर, नागेपुर, ककरहिया और डोमरी में प्रधानमंत्री की सांसद निधि से कोई भी कार्य नहीं कराया गया है।

सूत्रों के मुताबिक, इन गांवों में हुए विकास कार्य सांसद निधि की बजाए सरकारी योजनाओं और कं‍पनियों के सीएसआर फंड से कराए गए है। गांवों में बेहतर सुविधाओं के लिए कई संस्‍थाओं ने भी सहयोग दिया। हालांकि, इस बारे में प्रशासन का कोई अधिकारी कुछ बोलने को तैयार नहीं है। परियोजना निदेशक से बात करने की कोशिश की गई तो उन्होंने फोन नहीं उठाया। लोकसभा चुनाव में नरेंद्र मोदी को चुनौती देने वाले कांग्रेस के पूर्व विधायक अजय राय का कहना है, ‘बड़े उद्योगपतियों ने प्रधानमंत्री को खुश करने के लिए गोद लिए गांवों में पैसा पानी की तरह बहाया है। इसकी जांच होने पर चेहरे सामने आ जाएंगे।’

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper