आरटीओ ने मांगा जवाब, 16 किलोमीटर के लिए एम्बुलेंस चालक ने लिए 19 हजार रुपये

नई दिल्ली: महाराष्ट्र के पुणे में ओवरचार्जिंग का एक मामला सामने आया है। जिसमें मरीजे से सिर्फ 19 किलोमीटर के लिए 19 हजार रुपये ले लिए गए। गुरुवार को क्षेत्रीय परिवहन कार्यालय ने एम्बुलेंस सेवा प्रदाता को नोटिस दिया है। वहीं, एम्बुलेंस सेवा संचालक ने दावा किया कि उसने यह अधिक शुल्क नहीं लिया है। उसका दावा है कि उसके वाहन से रसीद बुक चोरी हो गई थी और किसी ने बिल को जाली कर दिया होगा। RTO ने कहा, “घटना के सामने आने के बाद हमने एंबुलेंस के रजिस्टर्ड मालिक को नोटिस दिया। अगले 3 दिनों में ठोस कार्रवाई की जाएगी। एम्बुलेंस संचालकों को मरीजों से अधिक शुल्क नहीं लेना चाहिए। उन्हें प्रशासन द्वारा तय दरों का पालन करना चाहिए।”

45 साल के कोविड मरीज को 28 मार्च की आधी रात को 2 बजे के आसपास नायडू अस्पताल से दूसरे अस्पताल में ट्रांसफर किया जाना था। मरीज के परिजनों ने आरोप लगाया कि उन्होंने जिस एम्बुलेंस की बुकिंग की थी, उसने 19 किमी के लिए 19000 की मांग की, इस तथ्य के बावजूद कि एम्बुलेंस सेवा की दरे कम है। उस समय मौजूद मरीज के दोस्त मयूर बोलदे ने कहा, “मालिक का दावा है कि उसकी रसीद बुक चोरी हो गई थी। हम जल्दी में थे और एंबुलेंस बुक करने के लिए कोई अन्य विकल्प नहीं था। शुल्क का भुगतान यूपीआई मोड के माध्यम से किया गया था।”

अधिकारियों के अनुसार, एंबुलेंस के मालिक ग्रीन पार्क ILF प्राइवेट लिमिटेड को कारण बताओ नोटिस जारी किया गया है। इस एम्बुलेंस के मालिक बाबासाहेब कांड ने दावा किया कि मोरया एम्बुलेंस सेवा कभी-कभी इस विशेष कार्डियक एम्बुलेंस को उधार लेती है और उसकी कंपनी केवल एम्बुलेंस की मालिक है, लेकिन सर्विस नहीं चलाती है। दूसरी ओर मोरया एम्बुलेंस सेवा के मालिक सचिन भगत ने दावा किया कि उनकी रसीद बुक चोरी हो गई है और किसी ने बिल को जाली कर दिया होगा। ओवरचार्जिंग की घटना पिछले साल की याद दिलाती थी जब कई सर्विस प्रोवाइडरों द्वारा ओवरचार्ज किए जाने के बाद उन पर कार्रवाई की गई थी। महामारी के चरम के दौरान बेड और एम्बुलेंस के रूप में कोविद रोगी कम आपूर्ति में थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper