आरोपी विधायक को यूपी पुलिस नहीं करेगी गिरफ्तार: डीजीपी

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) ओपी सिंह ने गुरुवार को यहां बताया कि उन्नाव दुष्कर्म मामले के आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को यूपी पुलिस गिरफ्तार नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि सरकार ने पूरे मामले की जांच सीबीआई को सुपुर्द करने का फैसला लिया है। ऐसे में अब सीबीआई चाहे तो आरोपी विधायक को गिरफ्तार कर सकती है।

उन्नाव दुष्कर्म मामले में प्रदेश के प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार और पुलिस महानिदेशक ओपी सिंह ने गुरुवार सुबह एनेक्सी के मीडिया संटर में पत्रकार वार्ता की। इस दौरान डीजीपी ने कहा कि पुलिस अभी सीबीआई जांच तक उन्नाव के विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की गिरफ्तारी नहीं करेगी।

गौरतलब है कि एसआईटी की जांच रिपोर्ट आने के बाद प्रदेश की योगी सरकार ने उन्नाव दुष्कर्म मामले में बुधवार देर रात बड़ा फैसला लेते हुए पूरे मामले की जांच सीबीआई को सुपुर्द करने की संस्तुति कर दी थी। सरकार के इस निर्णय के बाद पुलिस ने देर रात आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कर लिया। आरोपी विधायक के खिलाफ धारा 363, 366, 376, 506 और पॉक्सो एक्ट के तहत एफआईआर दर्ज की गई है। सरकार ने पीडि़ता के परिवार को सुरक्षा देने का भी आश्वासन दिया है। इस मामले में दो चिकित्सकों और पुलिस के एक क्षेत्राधिकारी को निलंबित भी कर दिया गया है।

डीजीपी ओपी सिंह ने इस पत्रकार वार्ता में आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर को माननीय कहा। जब उनसे इसको लेकर ओपी सिंह से सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि मैं किसी का बचाव नहीं कर रहा हूं। कानून की नजर में विधायक सिर्फ आरोपी हैं। मामले में अगर उनके खिलाफ उचित सबूत मिलेंगे तो उन पर कार्रवाई होगी।

पोक्सो एक्ट के तहत मामला दर्ज

आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश सरकार ने बुधवार को उन्नाव में बीजेपी के विधायक पर लगे रेप और पीडि़ता के पिता की हत्या के मामले की जांच सीबीआई से कराने का फैसला किया है। सरकार के निर्देश के बाद बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर पर पोक्सो एक्ट के तहत मामला भी दर्ज किया गया है। इस मामले में कुलदीप सिंह सेंगर के समर्थकों पर भी एफआईआर दर्ज कराई गई है। यूपी सरकार ने एसआईटी की रिपोर्ट के आधार पर इस मामले की सीबीआई जांच कराने का आदेश दिया है।

इसके अलावा सरकार ने इस पूरे कांड में लापरवाही बरतने के लिए उन्नाव के मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. डीके द्विवेदी और कैजुअलटी मेडिकल ऑफिसर डॉ. प्रशांत उपाध्याय समेत सीओ सफीपुर कुंवर बहादुर सिंह को भी निलंबित किया। सरकार की इस पूरी कार्रवाई की जानकारी यूपी के प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने दी। प्रमुख सचिव ने बताया कि ये कार्रवाई एडीजी लखनऊ जोन राजीव कृष्ण के नेतृत्व में गठित एसआईटी, उन्नाव के डीएम एनजी रवि कुमार और जेल के डीआईजी लव कुमार से मिली रिपोर्ट के आधार पर की गई।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper