आर्बिट्रेशन की विशेष लोक अदालत का शुभारम्भ । विशेष लोक अदालत के माध्यम से कुल 41 वादों का किया गया निस्तारण

बरेली: माननीय जनपद न्यायाधीश/अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण श्री विनोद कुमार ने कल आर्बिट्रेशन की विशेष लोक अदालत का शुभारम्भ किया। जिला जज द्वारा 03 मुकदमों का निस्तारण किया गया। विशेष लोक अदालत में सभी अपर जिला जज, फाइनेंस कंपनियों के अधिकारियों, अधिवक्ताओं एवं पदाधिकारियों ने प्रतिभाग किया तथा आर्बिट्रेशन निष्पादन के लंबित वादों का निस्तारण कराया। नोडल अधिकारी लोक अदालत/अपर जिला जज श्री अरविंद कुमार यादव ने बताया कि विशेष लोक अदालत के माध्यम से विभिन्न सत्र न्यायालयों द्वारा आर्बिट्रेशन निष्पादन के लंबित 41 वादों का सफल निस्तारण किया गया।

सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण न्यायाधीश श्री सौरभ कुमार वर्मा ने बताया कि विशेष लोक अदालत में कॉमर्शियल न्यायालय के पीठासीन अधिकारी श्री देवेंद्र सिंह द्वारा 07 वाद, अपर जिला जज श्री हरेन्द्र बहादुर सिंह द्वारा 03 वाद, मो इफ्तेखार अहमद द्वारा 02, श्री अब्दुल कय्यूम द्वारा 04 वाद, श्री उत्कर्ष यादव द्वारा 04 वाद, श्रीमती प्रतिभा सक्सेना द्वारा 13 वाद, श्री हरी प्रकाश गुप्ता द्वारा 02 वाद, श्री हरिप्रसाद द्वारा 01 वाद, श्री प्रण विजय सिंह द्वारा 02 वादों का निस्तारण किया गया। लोक अदालत में वाद कारियों की सुविधा के लिए जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की हेल्पडेस्क भी स्थापित की गई। जिसमें आने वाले वादकारियों को असुविधा से बचाने के लिए तथा अन्य लंबित मामलों के संबंध में जानकारियां हेल्पडेस्क पर मौजूद पी.एल.वी. द्वारा प्रदान कराई गई।
विशेष लोक अदालत को सफल बनाने में समस्त न्यायिक अधिकारियों, फाइनेंस कंपनी के अधिकारियों, अन्य न्यायिक कर्मचारियों, पराविधिक स्वयं सेवकों तथा मीडिया कर्मियों का भी योगदान रहा।

बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper