आलू पर सियासी रण को तैयार सपा

लखनऊ। आलू फेंके जाने के मामले में सपा का नाम जुड़ने के बाद अखिलेश यादव ने सिर पर फेंटा बांध लिया है। वह पहली बार योगी आदित्यनाथ की सरकार के खिलाफ 27 जनवरी को बिगुल बजाएंगे। यह बिगुल प्रदेश की सभी तहसीलों पर धरना प्रदर्शन कर एक साथ फूंका जाएगा। एक स्वर में सपा नेता कार्यकर्ता किसानों की समस्याएं उठाकर सरकार को कठघरे में खड़ा करने की कोशिश करेंगे।

कल तक पार्टी संगठन की मजबूती में लगे अखिलेश ने एकाएक आंदोलन करने का निर्णय तब लिया जब आलू फेंके जाने के मामले में पुलिस ने सपा के युवा नेताओं की भूमिका को उजागर किया। सपा प्रमुख ने आलू फेंकने की घटना को आलू किसानों का आंदोलन करार दिया। साथ ही कहा था, अपराधी पकड़े जाने चाहिए, न कि किसान। और अगर आरोपित लोग सपा से चुनाव लड़ चुके हैं, तो इसमें क्या बुराई है। वह तो आलू उत्पादक किसानों से कहेंगे कि वे कोल्ड स्टोर में सड़ रहे आलू को निकाल कर एक-एक बोरा आलू जिलाधिकारी को भेंट करें।

जनवरी के पहले सप्ताह की पांचवीं रात में भोर के वक्त राजभवन, विधान भवन और मुख्यमंत्री सचिवालय के सामने सड़क पर आलू फेंके की घटना हुई थी। इस घटना से सरकार सकते में आ गई थी। उसने इसे गंभीरता से लेते हुए आलू उत्पादक किसानों की समस्या को लेकर उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के नेतृत्व में चार मंत्रियों की एक समिति गठित कर दी थी। इसमें कृषि मंत्री सूर्य प्रताप शाही, वित्त मंत्री राजेश अग्रवाल व वन मंत्री दारा सिंह चौहान को शामिल किये गये थे। समिति ने अपनी पहली बैठक में आलू किसानों को सभी लाभ डीबीटी के तहत देने के साथ ही खाद्य प्रसंस्करण में १‚ लाख टन आलू की खपत को बढ़ाने के बारे में विचार भी किया था।

उधर, हजरगंज कोतवाली में मामला दर्ज करने के बाद पुलिस मामले की तह तक पहुंचने में लगी थी। घटना के आठवें दिन वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक दीपक कुमार ने खुलासा किया था कि सरकार को बदनाम कर राजनीतिक लाभ लेने के लिए यह काम सपा के कुछ युवा नेताओं ने किया था।

इस सिलसिले में कन्नौज के प्रॉपर्टी डीलर अंकित सिंह और डाला चालक संतोष पाल की गिरफ्तारी के बाद पूछताछ में साफ हुआ कि आलू फेंकने का कुचक्र कन्नौज की जिला पंचायत अध्यक्ष शिल्पी कटियार के पति संजू कटियार और सपा के टिकट पर तिर्वा से जिला पंचायत अध्यक्ष चुनाव लड़ चुके शिवेन्द्र सिंह उर्फ कुक्कू ने रचा था। इस कुचक्र में सन्दीप उर्फ रिक्की यादव, दीपेंद्र सिंह चौहान, प्रदीप सिंह उर्फ बंगाली और जय कुमार तिवारी उर्फ बड़े बउवन भी शामिल थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper