इंदिरा गांधी को पाकिस्तान विभाजन का श्रेय तो मोदी को बालकोट स्ट्राइक का श्रेय

दिल्ली ब्यूरो: देश की जनता की समस्याएं कुछ और है लेकिन चुनावी राजनीति जनता की मूल समस्यायों से अलग जज्बाती मुद्दों पर केंद्रित है। ताजा उदाहरण गृह मंत्री राजनाथ सिंह के बयान को लेकर है। केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने शनिवार को गुजरात के गांधीनगर में एक चुनावी रैली को संबोधित किया।

इस मौके पर सवालिया लहजे में उन्होंने कहा, ‘इंदिरा गांधी को अगर पाकिस्तान के विभाजन का श्रेय दिया जा सकता है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को बालाकोट एयर स्ट्राइक का श्रेय क्यों नहीं दिया जा सकता।’ उन्होंने आगे कहा, ‘यह हमारी सेना का शौर्य और पराक्रम था कि उसने पाकिस्तान के दो टुकड़े करवाए. एक पाकिस्तान रहा और दूसरे देश के रूप में बांग्लादेश का उदय हुआ।’

पीएम मोदी आज 500 जगहों पर मौजूद लोगों से सीधे साधेंगे संपर्क, कहेंगे-‘मैं भी चौकीदार’

रचना: राजीव कांत जैन

राजनाथ सिंह ने यह भी कहा कि 1971 के उस युद्ध में भारत की विजय पर बीजेपी के नेता अटल बिहारी वाजपेयी ने भी इंदिरा गांधी की प्रशंसा की थी। लेकिन बीते महीने पाकिस्तान के बालाकोट में जब नरेंद्र मोदी ने वायु सेना को एयर स्ट्राइक करने की मंजूरी दी तो उस वक्त कांग्रेस ने वैसी भावना नहीं दिखाई।

केंद्रीय गृह मंत्री ने कहा कि पुलवामा आतंकी हमले के बाद नरेंद्र मोदी ने बदले की कार्रवाई के लिए सेना को खुली छूट दे दी थी। फिर वायु सेना ने पाकिस्तान के खैबर पख्तूनख्वाह प्रांत में आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद (जेईएम) के कैंप को निशाना बनाया। उन्होंने कहा कि वह कार्रवाई कोई सैन्य हमला नहीं था। इसके साथ ही उन्होंने दोबारा पूछा कि क्यों इसका श्रेय नरेंद्र मोदी को नहीं दिया जाना चाहिए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper