इतना खतरनाक गाँव और वहाँ जाने का इतना खतरनाक रास्ता, आप के होश उड़ाने को काफी है

भारत दिनों-दिन तरक्की कर रहा है। हर जहा ऊँची-ऊँची इमारतें और चौड़ी-चौड़ी सड़कें देखने को मिलती हैं। आज के इस आधुनिक युग में इतनी तेज चलने वाली गाड़ियाँ आ गयी हैं कि एक बार उनसे टकरा जाने के बाद बचना मुश्किल हो जाता है। खतरनाक रास्तों पर चलने से पहले सौ बार सोचने की जरुरत पड़ती है। कई जगहों पर ड्राइविंग करना बहुत आसान होता है, लेकिन कई ऐसे भी रास्ते होते हैं, जिन्हें देखने के बाद ड्राइविंग करने के सपने भी नहीं आते हैं।

आज हम भारत के एक ऐसे रास्ते के बारे में बात करने जा रहे हैं, जहाँ गाड़ी चलाने से अच्छे-अच्छे ड्राइवरों की भी हालत खराब हो जाती है। इन रास्ते पर हर समय मौत पहरा दिए बैठी रहती है। जरा सी भूल हुई नहीं की व्यक्ति मौत के चक्रव्यूह में फँस जाता है। इस रास्ते को देखकर ही दिल में खौफ जग जाता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि इस सड़क को दुनिया की सबसे खतरनाक सड़क भी कहा जाता है।

यह सड़क दुनिया के सबसे खतरनाक गाँव की तरफ जाती है। यह गाँव पहाड़ियों की गोद में बसा हुआ है। जिन लोगों को रोमांच पसंद होता है, उनके लिए यह जगह जन्नत है, लेकिन यहाँ जाने वालों के ऊपर हमेशा जान जाने का खतरा बना रहता है। मानसिक रूप से कमजोर लोगों को ऐसी जगहों पर जाने से बचना चाहिए। इस सड़क पर चलने वालों के दिल की धड़कनें रुक जाती हैं। यह खतरनाक सड़क जिस गाँव की तरफ जाती है, वहाँ की आबादी मात्र 329 लोगों की है।

आपको बता दें इस गाँव का नाम गुओ लिआंग कन है। यहाँ जाने वाले पर्यटकों को यहाँ का नजारा अपनी तरफ आकर्षित तो जरुर करता है लेकिन उन्हें स्तब्ध करने में भी कोई कसर नहीं छोड़ता है। इस सड़क का निर्माण 1972 में चट्टानों को काटकर बनाया गया था। इस सड़क को बनाने में 5 सालों का लम्बा वक़्त लग गया था। यह रास्ता किसी अजूबे से कम नहीं है। इस सड़क का निर्माण गाँव के लोगों की मदद से किया गया था। इससे पहले वह देश-दुनिया से कटे हुए थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper