इतिहास में पहली बार एक हाथी को सब के सामने चढ़ा दिया गया था फांसी पर, जानिये क्या था अपराध

दुनिया के हर देश में अलग-अलग नियम और कानून होते हैं और इन्हीं के अनुसार गुनाह करने वाले को सजा दी जाती है. आपने अभी तक सिर्फ इंसानों को ही फांसी की सजा देने के बारे में सुना होगा लेकिन आप यह जानकर हैरान हो जाएंगे कि किसी समय पर एक जानवर को भी फांसी दी गई थी. जी हाँ…ये सुनकर आपको थोड़ा अजीब लग सकता है लेकिन यह सच है. आज हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे हाथी के बारे में जिसे करीब 105 साल पहले हजारों लोगों के बीच सरेआम फांसी पर लटका दिया था.

आइए जानते हैं इस हाथी की पूरी कहानी
13 सितंबर साल 1916 को अमेरिका के टेनेसी राज्य में हजारों संख्या की भीड़ में ‘मैरी’ नाम के एक हाथी को फांसी दी गई थी. इस घटना को दुनिया की सबसे खौफनाक घटनाओं में से एक माना जाता है, क्योंकि आज तक ऐसा कभी भी किसी जानवर के लिए नहीं किया गया. दरअसल, अमेरिका की टेनेसी राज्य में चार्ली स्पार्क नाम का एक शख्स ‘स्पार्क्स वर्ल्ड फेमस शो’ यानी कि एक सर्कस चलाता था.

उसके पास सर्कस चलाने के लिए कई जानवर थे जिसमें एक हाथी भी था और उन्होंने इस हाथी को ‘मैरी’ नाम दिया था. लेकिन किसी कारणवश मैरी के महावत ने बीच में ही सर्कस छोड़ दिया. ऐसे में मैरी की कमान किसी और महावत के हाथ में चली गई. क्योंकि ये महावत थोड़ा नया था ऐसे में ये महावत मैरी के साथ अच्छे से तालमेल नहीं बैठा पा रहा था और उसे मेरी की देखरेख में भी थोड़ी परेशानी हो रही थी.

इसी बीच शहर में एक परेड निकाले जाने थी जिसमें मैरी (Mary) भी शामिल हुआ था. इस दौरान उसकी नजर खाने के कुछ चीजों पर पर पड़ी और वह तेजी से उसकी तरफ बढ़ने लगा. ऐसे में नए महावत ने मैरी को भरपूर कंट्रोल करने की कोशिश की लेकिन लगातार कोशिश करने के बाद मैरी कंट्रोल में नहीं आ रहा था, तो इस दौरान महावत ने मैरी को रोकने के लिए उसके कान के पीछे भला भी घोंप दिया. ऐसे में मैरी बुरी तरह गुस्सा हो गया और उसने उसी दौरान महावत को अपने पैरों तले रौंद कर मार दिया.

जैसे ही महावत की मौत हो गई तो अमेरिका में चारों तरफ हंगामा शुरू हो गया. हर तरफ मैरी को मृत्यु दंड देने की मांग उठने लगी और सारे अखबारों में भी उसके नाम की खबर छपने लगी. इतना ही नहीं बल्कि कई लोग सर्कस के मालिक चार्ली स्पार्क को भी धमकी देने लगे कि, वे मैरी को मौत दे नहीं देंगे तो शहर में कहीं भी सर्कस नहीं होने देंगे.

इस दौरान कुछ लोगों ने मैरी को करंट के जरिए मृत्युदंड की बात कही तो किसी ने उसे ट्रेन के आगे कुचलवा देने की बात कही. इसके बाद सरकार को निर्णय लेना पड़ा कि मैरी को फांसी की सजा दी जाएगी. फिर 13 सितंबर साल 1916 को क्रेन की मदद से हजारों संख्या की भीड़ में इस हाथी को फांसी पर लटका दिया गया.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper