इन सेलेब्स को देखना पड़ा कंगाली का दौर, किसी ने बेची सब्जी तो आर्थिक तंगी की वजह से दे दी जान

कोरोना लॉकडाउन को एक साल पूरा हो गया है। कई सितारों के लिए यह दौर बेहद बुरा साबित हुआ था। कई टीवी सितारों को लॉकडाउन के चलते काम नहीं मिला और उन्हें आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ गया। कईयों ने सोशल मीडिया पर सामने आकर मदद की गुहार लगाई तो कुछ ने पैसे और काम ना होने के चलते सुसाइड कर लिया या बीमारी के इलाज के लिए पैसे ना होने के कारण उनका देहांत हो गया।

मनमीत ग्रेवाल

32 साल के मनमीत ग्रेवाल ने 15 मई को आत्महत्या कर ली थी। मनमीत के सुसाइड के कारणों के पीछे उनकी पिछली पेमेंट न मिलने के चलते सामने आई आर्थिक परेशानी थी। उनके दोस्त मंजीत सिंह ने एक बातचीत में बताया था कि कुछ दिन पहले ही मनमीत के दोस्त ने भी पंखे से लटककर आत्महत्या की थी। वह भी आर्थिक तंगी से गुजर रहा था। दोनों ने फॉरेन ट्रिप के लिए लोन लिया था और वे इसका भुगतान नहीं कर पा रहे थे। लॉकडाउन लगने के कारण मनमीत और ज्यादा परेशान हो उठे और उन्होंने सुसाइड जैसा कदम उठा लिया।

आशीष रॉय

‘ससुराल सिमर का’ जैसे टीवी सीरियल्स में नजर आए अभिनेता आशीष रॉय का 24 नवंबर को मुंबई में निधन हो गया था। 55 साल के अभिनेता की मौत किडनी फेल होने की वजह से हुई। आशीष पिछले कुछ सालों से किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे और उनके पास इलाज के पैसे नहीं थे। पिछले एक साल में वे कई बार सोशल मीडिया के जरिए लोगों से आर्थिक मदद मांग चुके थे।

रामवृक्ष गौर

कई टीवी शोज में असिस्टेंट डायरेक्टर रह चुके रामवृक्ष गौर काम नहीं होने की वजह से आजमगढ़ में सब्जी बेचने को मजबूर हो गए थे। हालांकि अब उन्होंने ये काम बंद कर दिया है। राम की मानें तो अब उन्हें एक भोजपुरी फिल्म में काम मिल गया हैं जिसमें वे असिस्टेंट डायरेक्टर रहेंगे।

उन्होंने बताया, ‘पिछले 18 सालों में मैंने कई टीवी शोज और फिल्में कीं, जिनसे मैंने अच्छे खासे पैसे भी कमाए। हालांकि पिछले 3 साल से मेरी तबियत काफी खराब चल रही है जिसकी वजह से मैं ज्यादा काम नहीं कर पाता। इसी दौरान मेरी जितनी भी बचत थी वो इलाज में खर्च हो गई।’

‘किसी तरह काम चल रहा था लेकिन लॉकडाउन में मेरी आर्थिक स्थिति काफी ज्यादा खराब हो गई। कुछ पैसे जोड़ने के लिए मैंने फिर से सब्जी बेचने का पुराना काम शुरू कर दिया। इसमें मुझे कुछ गलत नहीं लगा।’

सोलंकी दिवाकर

दिवाकर आयुष्मान खुराना की ‘ड्रीमगर्ल’ और सुशांत सिंह राजपूत की ‘सोनचिरैया’ में नजर आए थे। लॉकडाउन से पहले दिवाकर ऋषि कपूर के साथ फिल्म ‘शर्मा जी नमकीन’ की शूटिंग कर रहे थे लेकिन फिल्मों की शूटिंग बंद हो गई और दिवाकर के पास कोई काम नहीं बचा। ऐसे में उन्होंने दिल्ली में फल बेचने का काम शुरू किया।

दिवाकर ने न्यूज एजेंसी एएनआई से बातचीत में कहा था, ‘लॉकडाउन बढ़ने के बाद मुझे अपने घर का किराया भरने और परिवार की जरूरतें पूरी करने में दिक्कत आने लगी। तो मैंने फल बेचने का काम शुरू किया।

राजेश करीर​​​​​​​​​​​​​​

पिछले साल ‘बेगुसराय’ और ‘सीआईडी’ जैसे टीवी शो में काम कर चुके अभिनेता राजेश करीर का वीडियो वायरल हुआ था। वीडियो में उन्होंने रोते हुए आर्थिक तंगी का जिक्र कर लोगों से मदद करने की गुहार लगाई थी। यह वीडियो देखते ही देखते सोशल मीडिया पर वायरल हो गया और कई लोगों ने राजेश की आर्थिक मदद कर उन्हें राहत पहुंचाई।

राजेश ने कहा, ‘ऐसा लगा जैसे पूरा देश मेरी मदद करने के लिए आगे आ गया। मैं आप सबका तहे दिल से शुक्रगुजार हूं। आप सबने मेरी हैसियत से ज्यादा मेरी मदद कर दी लेकिन अब मैं कहना चाहता हूं कि मेरे अकाउंट में और पैसा मत डालिए। मुझे उम्मीद से ज्यादा आर्थिक मदद मिल चुकी है। लेकिन अब आगे अपने परिवार का ख्याल मुझे अपने दम पर ही रखना है।

नुपूर अलंकार

‘स्वरागिनी’, ‘इस प्यार को क्या नाम दूं’, ‘दीया और बाती हम’, ‘अगले जनम मोहे बिटिया ही कीजो’ और ‘घर की लक्ष्मी बेटियां’ जैसे टीवी सीरियलों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस नुपूर अलंकार के भी लॉकडाउन में आर्थिक तंगी से गुजरने की खबरें आईं।

उनकी दोस्त रेणुका शहाणे ने एक फेसबुक पोस्ट में इस बात का जिक्र करते हुए लोगों से नुपूर की आर्थिक मदद करने की अपील की थी। रेणुका ने बताया था कि नुपूर के पास अपनी बीमार मां की इलाज के लिए पैसे नहीं हैं जिसके बाद उनकी मदद के लिए अक्षय कुमार सामने आए थे। बाद में नुपूर ने अक्षय को मदद के लिए धन्यवाद कहा था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
----------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper