इन 30 दिनों के अंदर लगने वाले हैं 3 बड़े ग्रहण, जानें कब और कहां होगा इनका असर

नई दिल्ली: वैसे तो ग्रहण एक खगोलीय घटना है, लेकिन हिंदू धर्म में इसे बेहद महत्वपूर्ण माना गया है। इस साल 2020 में कुल 6 ग्रहण लगने वाले हैं, जिनमें से कुल तीन ग्रहण अगले 30 दिन यानी एक महीने के भीतर लगने वाले हैं। जून से जुलाई महीने के बीच एक के बाद एक लगातार 3 बड़े ग्रहण लग रहे हैं।

एक महीने में होने वाले इन तीनों ग्रहण पर वैज्ञानिकों और ज्योतिष शास्त्र के विद्वानों ने नजरें गढ़ा रखी हैं। ज्योतिर्विद करिश्मा कौशिक ने आने वाले तीन ग्रहण की समय और तिथि को लेकर विस्तार से जानकारी दी है। ज्योतिषविद ने बताया कि साल का पहला चंद्र ग्रहण 10 जनवरी 2020 को लग चुका है, अब 5 जून 2020 को साल का दूसरा चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है। यह एक उपछाया ग्रहण होगा जो भारत समेत एशिया, अफ्रीका और यूरोप में नजर आएगा। 5 जून 2020 को लगने वाला चंद्र ग्रहण रात 11 बजकर 15 मिनट से आरंभ होगा और इसका समापन अगले दिन यानी 6 जून को रात 2 बजकर 34 मिनट पर होगा।

इसके 15 दिन बाद यानी 21 जून 2020 को दूसरा चंद्र ग्रहण लगेगा। यह साल का तीसरा चंद्र ग्रहण होगा। यह ग्रहण भारत समेत सउदी, साउथ-ईस्ट और एशिया में भी पूर्ण रूप से नजर आने की संभावना है। 21 जून को लगने वाला चंद्र ग्रहण सुबह 9 बजकर 15 मिनट आरंभ होगा और दोपहर 2 बजकर 2 मिनट तक रहेगा। ज्योतिर्विद का कहना है कि दोपहर करीब 12 बजे इस ग्रहण का प्रभाव काफी ज्यादा बढ़ जाएगा, इसलिए इस ग्रहण से काफी ज्यादा संभलकर रहने की जरूरत होगी।

इसके बाद एक महीने के भीतर लगने वाले तीसरने ग्रहण की तारीख 5 जुलाई 2020 है। ये भी एक चंद्र ग्रहण ही होगा, लेकिन शायद यह भारत में नजर नहीं आएगा। यह साउथ ईस्ट समेत अफ्रीका और अमेरिका में नजर आ सकता है। यह ग्रहण सुबह 8 बजकर 37 मिनट से लेकर सुबह 11 बजकर 22 मिनट तक रहेगा। सुबह के वक्त चंद्र ग्रहण लगने की वजह से भारत में यह नजर नहीं आएगा। जिन देशों में उस वक्त रात्रि होगी, यह ग्रहण वहीं नजर आने वाला है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper