इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीबीआई से ऑस्ट्रेलिया में आनंद गिरि की गिरफ्तारी की पुष्टि करने को कहा

प्रयागराज । इलाहाबाद उच्च न्यायालय ने केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के वकील को इस तथ्य की पुष्टि करने का निर्देश दिया है कि क्या महंत नरेंद्र गिरि की कथित आत्महत्या मामले के आरोपियों में से एक आनंद गिरि मई 2019 में ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था और क्या उन्हें वहां छेड़छाड़ के एक मामले में गिरफ्तार किया गया था।

यह आरोप लगाया जाता है कि वह पुलिस हिरासत में रहा और बाद में रिहा कर दिया गया और सुरक्षित भारत लौट आया। अदालत ने सीबीआई के वकील को इस तथ्य की पुष्टि के बाद हलफनामा दाखिल करने का भी निर्देश दिया। न्यायमूर्ति राजीव गुप्ता ने यह आदेश तब पारित किया, जब आनंद गिरि द्वारा दायर एक जमानत याचिका पर सुनवाई के दौरान उनके वकील ने अदालत के समक्ष कहा कि आनंद गिरि का कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।

हालाँकि, सीबीआई द्वारा दायर आरोप पत्र के पैरा- 16.7 में, यह स्पष्ट रूप से कहा गया था कि मई 2019 में आनंद गिरि ने ऑस्ट्रेलिया का दौरा किया था और छेड़छाड़ के मामले में गिरफ्तार किया गया था, जिसके लिए, वह पुलिस हिरासत में रहा और बाद में रिहा कर दिया गया और वापस सुरक्षित भारत आ गया।

आनंद गिरि 22 सितंबर 2021 से अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के पूर्व प्रमुख अपने गुरु महंत नरेंद्र गिरि की आत्महत्या के मामले में जेल में बंद हैं। जमानत अर्जी में कहा गया है कि इस मामले में आवेदक को झूठा फंसाया गया है। अर्जी के मुताबिक कथित सुसाइड नोट नरेंद्र गिरि की लिखावट में नहीं है।

 

 

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper