ईरान में फंसे 58 भारतीयों को लेकर लौटा वायुसेना का ‘ग्लोबमास्टर’

नई दिल्ली: भारतीय वायुसेना का सी-17 ग्लोबमास्टर विमान कोरोना प्रभावित ईरान में फंसे 58 भारतीय यात्रियों को लेकर मंगलवार सुबह हिंडन एयरपोर्ट पर उतरा। यात्रियों के साथ एक विशेषज्ञ मेडिकल टीम भी मौजूद रही जो यहां से विमान में साथ गई थी। हिंडन एयरपोर्ट पर पहले से ही चिकित्सा सुविधाएं स्थापित की गई थी।

प्रवक्ता ने बताया कि वायुसेना की मेडिकल टीम और सहयोगी स्टाफ मानवीय सहायता मिशन के लिए विमान में साथ रही है। वायु सेना ने ईरान से देशवासियों की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित करने के लिए सभी आवश्यक परिचालन और चिकित्सा व्यवस्था की है। ईरान में फंसे भारतीयों को वापस लाने के लिए सी-17 विमान ने कल शाम 8.30 बजे उड़ान भरी थी। ईरान में फंसे यात्रियों को वापस तो ले आया गया है लेकिन होली का पर्व होने के बावजूद ये अपने परिवार वालों से नहीं मिल सकेंगे क्योंकि इन्हें छावला (हरियाणा) स्थित आईटीबीपी के कैम्प में ले जाकर ऑइसोलेशन में रखा जाएगा।

ईरान में करीब दो हजार भारतीय रह रहे हैं जहां पिछले कुछ दिनों में कोरोना वायरस के मामलों में बढ़ोतरी हो रही है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने बताया कि 58 भारतीय तीर्थयात्रियों का पहला बैच ईरान से वापस भारत लाया गया है। भारतीय वायुसेना के विमान सी-17 ग्लोबमास्टर ने तेहरान से उड़ान भरी और हिंडन वायु सेना स्टेशन (गाजियाबाद) में उतरा है।

उन्होंने ईरान स्थित भारतीय दूतावास के अधिकारियों और भारतीय चिकित्सा टीम को चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में काम करने के लिए धन्यवाद देते हुए भारतीय वायुसेना के साथ ईरानी अधिकारियों के सहयोग का भी शुक्रिया अदा किया है। उन्होंने कहा कि अभी यह पहला बैच लाया गया है लेकिन हम वहां फंसे अन्य भारतीयों की वापसी पर भी काम कर रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper