ईवीएम या तो खराब या फिर भाजपा के लिए कर रही वोट: अखिलेश

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने लोकसभा चुनाव में सरकारी मशीनरी के दुरुपयोग का आरोप लगाया है। पार्टी के राष्ट्रीय सचिव व प्रवक्ता राजेन्द्र चौधरी के नेतृत्व में सपा प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल. वेंकटेश्वरलू से भेंट कर ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत की। उधर बदायूं में सपा उम्मीदवार धर्मेंद्र ने आरोप लगाया कि भाजपा उम्मीदवार संघमित्रा के पिता स्वामी प्रसाद मौर्य चुनाव के दिन भी जिले में रुके हुए हैं लेकिन जांच के बाद यह आराेप निराधार निकला। सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने भी भाजपा पर गड़बड़ी कराने का आरोप लगाया है।

चौधरी ने कहा कि पार्टी अध्यक्ष अखिलेश यादव ने रामपुर के जिलाधिकारी और वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक को बदलने के लिए एक सप्ताह पहले पत्र लिखा था। आयोग ने कोई कार्रवाई नहीं की। मतदाताओं को धमकाया जा रहा है। मुख्य निर्वाचन अधिकारी को लिखित में दे दिया गया है। हमें उम्मीद है आयोग कार्रवाई करेगा। उनके साथ सपा नेता एसआरएस यादव, अरविंद सिंह व अभिषेक मिश्रा भी थे। पार्टी ने आरोप लगाया है कि रामपुर लोकसभा क्षेत्र के शहरी एवं ग्रामीण दोनों ही क्षेत्रों में कई मतदान केन्द्रों पर खराब वोटिंग मशीनों की वजह से मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करने से वंचित हैं। , स्वार टाण्डा, रामपुर सदर, चमरव्वा से बड़ी संख्या में मशीनों के खराब होने की जानकारी मिल रही हैं। जिला प्रशासन का रवैया बेहद गैरजिम्मेदाराना है और लोगों को मताधिकार से वंचित रखने की साजिश की जा रही है।

बदायूं में सपा उम्मीदवार धर्मेंद्र यादव ने आज सुबह शिकायत की कि भाजपा उम्मीदवार संघमित्रा के पिता और राज्य सरकार में मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य चुनाव के दिन भी बदायूं में अपने आवास पर रुके हुए हैं। उनके द्वारा चुनाव में गड़बड़ी फैलाये जाने का अंदेशा है। इस पर पुलिस धर्मेंद्र यादव के बताये स्थान पर गयी लेकिन मंत्री स्वामी प्रसाद मौर्य नहीं मिले।

उधर सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने अपने बयान में कहा कि रामपुर में 350 से अधिक इवीएम मशीन खराब हो गयी हैं। इससे चुनाव प्रभावित हो रहा है। प्रशासन वोट नहीं डालने दे रहा है। इसके अलावा उन्होंने चुनाव आयोग को टैग करते हुए ट्वीट किया पूरे भारत में ईवीएम या तो खराब हैं या फिर भाजपा के लिए वोट कर रही हैं। उन्होंने कहा कि जिलाधिकारी कहते हैं कि निर्वाचन अधिकारी ईवीएम परिचालन की दृष्टि से प्रशिक्षित नहीं हैं। साढे़ तीन सौ से अधिक ईवीएम बदली जा रही हैं। सपा प्रमुख ने कहा कि यह चुनावी प्रक्रिया के लिहाज से आपराधिक लापरवाही है, वह चुनावी प्रक्रिया, जिस पर 50 हजार करोड़ रूपये खर्च हो रहे हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper