उत्तराखंड के 282 लोग यूक्रेन और आसपास के देशों में हैं फंसे, अब तक 33 हुए हैं वापस

देहरादून: उत्तराखण्ड के 282 लोग यूक्रेन और उसके आस-पास के देशों में फंसे हैं, जिनमें से 33 लोग सकुशल घर वापस आ चुके हैं। यूक्रेन में फंसे छात्रों और उत्तराखंड में निवासरत उनके परिवारजनों के साथ समन्वय के लिए 03 व्हाट्सप्प ग्रुप बनाए गए हैं, जिनमें वरिष्ठ अधिकारी भी जुड़े हैं। प्रभारी मुख्य सचि राधा रतूड़ी ने सचिवालय में वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिए हैं। उन्होंने यूक्रेन में उत्तराखंड के जो छात्र एवं अन्य नागरिक हैं, उनके परिजनों से लगातार संपर्क स्थापित करने को कहा है। भारत सरकार और राज्य सरकार के संयुक्त प्रयासों से सभी को सुरक्षित वापस लाने के प्रयास किये जा रहे हैं।

उन्होंने बताया कि यूक्रेन सीमा से लगे देशों में इंडियन एम्बेसी से भी जानकारी ली जा रही है। अभी तक उत्तराखंड के 282 लोगों की सूचना प्राप्त हो चुकी है, जो यूक्रेन और उसके आस-पास के देशों में फंसे हैं, जिनमें से 33 सकुशल घर वापस लौट चुके हैं। यूक्रेन में फंसे छात्रों एवं उत्तराखंड में निवासरत उनके परिवारजनों के मोबाइल नम्बर को जोड़ते हुए 03 व्हाट्स एप ग्रुप बनाए गए हैं, जिनमें सभी वरिष्ठ अधिकारी भी जुड़े हैं। यूक्रेन में फंसे छात्रों के परिजनों से जिला स्तर के अधिकारी व्यक्तिगत रूप से निरन्तर सम्पर्क बनाए हुए हैं। यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के नागरिकों और छात्रों की वर्तमान लोकेशन की जानकारी शासन और दिल्ली स्थित स्थानिक आयुक्त कार्यालय को भी समय-समय पर दी जाये, ताकि सभी सूचनाओं का आदान-प्रदान एमईए को शीघ्रता से किया जा सके।

प्रभारी मुख्य सचिव राधा रतूड़ी ने कहा कि दिल्ली एवं मुम्बई में राज्य की ओर से यूक्रेन से आने वाले उत्तराखंड वासियों के लिए समन्वय केन्द्र बनाया गया है। सभी आगन्तुकों के लिए ठहरने एवं खाने की व्यवस्था की गई है। दिल्ली से अपने गन्तव्य तक लाने की व्यवस्था राज्य की ओर से की गई है। यूक्रेन से आने वाले उत्तराखंड के नागरिकों की वर्तमान लोकेशन की जो भी सूचना प्राप्त हो रही है, उन सूचनाओं का आदान-प्रदान तेजी से किया जाये, ताकि सूचना समय पर स्थानिक आयुक्त कार्यालय एवं एमईए को भेजी जा सके।

उन्होंने सभी जिलाधिकारियों को निर्देश दिये कि यूक्रेन और उसके आस-पास के देशों में फंसे उत्तराखंड के जिन नागरिकों या उनके परिजनों से अभी तक सम्पर्क नहीं हो पाया है, प्राप्त डाटा के आधार पर उनके परिजनों से सम्पर्क स्थापित करने के लिए टीम भेजी जाये। यूक्रेन से उत्तराखंड के सभी नागरिकों को सकुशल वापस लाने एवं बेहतर समन्वय स्थापित करने के लिए जनपद एवं तहसील स्तर पर नोडल अधिकारियों की तैनाती की गई है। शासन, प्रशासन एवं पुलिस द्वारा आपसी समन्वय से सभी व्यवस्थाएं की जा रही हैं। उत्तराखंड शासन की ओर से बेहतर समन्वय स्थापित करने के लिए सचिव विनोद कुमार सुमन को नई दिल्ली में नोडल अधिकारी के रूप में भेजा गया है।

राधा रतूड़ी ने कहा कि यूक्रेन में फंसे उत्तराखंड के लोगों को सकुशल वापस लाने एवं उनकी वर्तमान लोकेशन की जानकारी के लिए राज्य स्तर पर राज्य आपदा परिचालन केन्द्र को सक्रिय किया गया है। इस केन्द्र में सभी जनपदों एवं अभिसूचना विभाग से प्राप्त सूचनाएं आरसी ऑफिस एवं एमईए को दी जाएगी।
बैठक में अपर मुख्य सचिव आनन्द बर्द्धन, एडीजी इंटेलीजेंस संजय गुंज्याल, सचिव एसए मुरुगेशन, विनोद कुमार सुमन, डीआईजी इंटेलीजेंस निवेदिता कुकरेती, अपर सचिव सोनकर, वर्चुअल माध्यम से सभी जिलाधिकारी और एआरसी अजय मिश्रा मौजूद थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
--------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper