उत्तराखण्ड की तरह उत्तर प्रदेश में शिक्षामित्र हो स्थायी: संजय सिंह

लखनऊ: आम आदमी पार्टी (आप) के प्रवक्ता व राज्यसभा सांसद संजय सिंह ने कहा कि उत्तराखण्ड की तरह ही उत्तर प्रदेश के शिक्षामित्रों को स्थायी किया जाये। अगर शिक्षामित्रों की बात सुनने में प्रदेश की सरकार समय लगायेगी तो पार्टी आंदोलन को बाध्य होगी।

संजय सिंह शनिवार को इको गार्डन में नियुक्ति की मांग को लेकर धरना दे रहे शिक्षा मित्रों से मिलने पहुंचे। उन्होंने शिक्षा मित्रों से मुलाकात की और सिर मुंडवाने की वजह को सभी शिक्षा मित्रों से सुना। इसके बाद उन्होंने पार्टी की ओर से शिक्षामित्रों के धरना को समर्थन देने को ऐलान कर दिया। संजय सिंह ने कहा कि उत्तर प्रदेश के शिक्षा मित्रों को उनका अधिकार मिलना चाहिए। उत्तराखण्ड और उत्तर प्रदेश में एक साथ शिक्षामित्रों को भर्तियां हुईं। वहां शिक्षामित्र स्थायी हो गये लेकिन यहां उत्तर प्रदेश में अब तक स्थाई नहीं किया गया है।

सांसद ने कहा कि गांवों से निकल कर आये लोगों को यहां धरना देना पड़ रहा है। लखनऊ में प्रधानमंत्री आ रहे हैं। इसलिए इको गार्डन में पांच लोगों से ज्यादा लोगों को रूकने की अनुमति नहीं दी गयी है।30 जुलाई को फिर से पूरे प्रदेश के शिक्षा मित्र यहां जुटेंगे और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता उनका साथ देंगे। उन्होंने कहा कि 1.72 लाख शिक्षामित्रों को अधिकारी अपने अपने विद्यालयों में लौटने की धमकी दे रहे हैं। ये गलत रवैया है और इस तरह से नहीं चलने दिया जायेगा।

बता दें कि पिछले 40 दिनों से लखनऊ के इको गार्डन में 30 हजार टीईटी पास शिक्षामित्र सीधे शिक्षक पद पर नियुक्ति, आंदोलन के दौरान मृत हुए शिक्षामित्रों के परिजन को नौकरी व मुआवजा की मांगों को लेकर धरना दे रहें है। पिछले दिनों शिक्षामित्रों ने अपने सिर को मुंडवाया था।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper