उत्तर प्रदेश कृषक समृद्धि आयोग से धर्मेन्द्र मलिक का इस्तीफा

लखनऊ: भारतीय किसान यूनियन (टिकैत गुट) से जुड़े धर्मेन्द्र मलिक ने आज उत्तर प्रदेश कृषक समृद्धि आयोग के सदस्य पद से त्यागपत्र दे दिया। मलिक ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को भेजे पत्र में कहा कि आपको इस धन्यवाद के साथ आयोग के सदस्य पद से इस्तीफा भेज रहा हूँ कि आपके द्वारा किसान हितों के लिए 10 नवम्बर 2017 को कृषक समृद्धि आयोग का गठन किया गया था। इस आयोग का उद्देश्य किसानों की समस्याओं की जानकारी कर समाधान करना था। आयोग में गैर सरकारी सदस्य एवं किसान संगठन के प्रतिनिधि के तौर पर मुझे भी नामित किया गया था।

बडे़ दुःख का विषय है कि लगभग साढे तीन वर्ष बीत जाने के बावजूद भी आयोग की एक भी बैठक का आयोजन नहीं किया गयाहै। आज देशभर में हाल में ही लाये गये तीन कृषि कानूनों को लेकर भारत सरकार और किसानों के बीच गतिरोध चल रहा है। पिछले तीन माह से किसानों ने भारी सर्दी में अपना समय सड़कों पर बिता दिया, लेकिन भारत सरकार आज तक कोई समाधान नहीं निकाल पायी।

ऐसे गम्भीर विषय पर भी कृषक समृद्धि आयोग की तरफ से भारत सरकार को कोई सुझाव नहीं भेजे गये और न ही हम इस विषय पर उत्तर प्रदेश के किसानों की राय संवाद के माध्यम से नहीं जान पाए। आयोग का गठन जिस उद्देश्य को लेकर किया गया था, आयोग वह उद्देश्य पूरे नहीं कर पाया है। कृषक समृद्धि आयोग से सदस्य के रूप में मैं अपना त्यागपत्र देता हूँ। आपसे निवेदन है कि मेरा त्यागपत्र स्वीकार किया जाए।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper