उत्तर प्रदेश ,मध्य प्रदेश समेत 6 में बढ़ी में ठिठुरन ,2 राज्यों में भारी बारिश के आसार

नईदिल्ली: पहाड़ों पर बर्फबारी हो रही है, मैदानी राज्यों में ठिठुरन बढ़ रही है और दक्षिण भारत के दो राज्यों में भारी बारिश की आशंका है। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, उत्तर भारत में सर्दी ने अपना असर दिखाना शुरू कर दिया है। पहाड़ों से चली बर्फीली हवाओं का असर दिल्ली-एनसीआर के साथ ही पंजाब, हरियाणा, दिल्ली, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में दिख रहा है। यहां न्यूनतम तापमान में गिरावट आई है। मौसम विभाग मानना है कि पारा अभी और गिरेगा। इन सभी राज्यों में शीतलहर के हालात बने रहेंगे। प्रशासन भी हालात पर नजर रख हुए है। शीतलहर का प्रकोप बढ़ता है तो स्कूलों में छुट्टियां कर दी जाएंगी।

स्कायमेट वेदर की रिपोर्ट के अनुसार, देश के कई हिस्सों में तापमान में गिरावट जारी है। दिल्ली में 9 डिग्री पर सीजन का सबसे कम न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया। हरियाणा, पंजाब और मध्य प्रदेश के कई हिस्सों में न्यूनतम तापमान एक अंक में दर्ज किया गया। राजस्थान, बिहार और झारखंड के कुछ हिस्सों में भी भारी गिरावट देखी गई। मध्य प्रदेश के नौगांव में न्यूनतम तापमान 6.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

दिन और रात के तापमान में इस गिरावट के लिए उत्तर पश्चिम से आने वाली ठंडी हवाएं जिम्मेदार हैं। एक पश्चिमी विक्षोभ पश्चिमी हिमालय की ओर बढ़ रहा है इसलिए अगले 24 घंटों के दौरान न्यूनतम तापमान में मामूली वृद्धि हो सकती है।

इन दो राज्यों में भारी बारिश का अलर्ट

मौसम विभाग के मुताबिक, कई दक्षिण भारतीय राज्यों में आने वाले दिनों में भारी वर्षा होने की संभावना है। 21 और 22 नवंबर को उत्तर-तटीय तमिलनाडु-पुडुचेरी, दक्षिण-तटीय आंध्र प्रदेश और रायलसीमा में अलग-अलग जगहों पर भारी वर्षा होने की संभावना है। दक्षिण-पश्चिम और इससे सटे दक्षिण-पूर्वी बंगाल की खाड़ी में डिप्रेशन की स्थिति बनी हुई है और अगले 48 घंटों के दौरान उत्तर तमिलनाडु, पुडुचेरी और दक्षिण आंध्र प्रदेश के तटों की ओर धीरे-धीरे पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने की उम्मीद है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------ -------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------- --------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------   ----------------------------------------------------------- -------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------- -------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper