उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस एवं राष्ट्रीय बालिका दिवस पर संजय कम्युनिटी हाल में विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन


बरेली, 25 जनवरी। उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस एवं राष्ट्रीय बालिका दिवस का आयोजन कल संजय कम्युनिटी हाल में किया गया। जिलाधिकारी श्री शिवाकान्त द्विवेदी ने दीप प्रज्वलित कर मॉ सरस्वती के चित्र पर माल्यार्पण कर कार्यक्रम का शुभारम्भ किया।
इससे पूर्व उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर कृषि विभाग, समाज कल्याण विभाग, खादी तथा ग्रामोद्योग विभाग, बाल विकास विभाग, पशुपालन विभाग ग्रामीण आजीविका मिशन, स्वास्थ्य विभाग, महिला कल्याण विभाग, मत्स्य विभाग, सूचना विभाग आदि विभिन्न विभागों द्वारा अपने-अपने विभाग के स्टॉल लगाकर लोगों को योजनाओं की जानकारी दी गई। जिलाधिकारी ने विभिन्न विभागों द्वारा लगाए गए स्टालों का अवलोकन भी किया। वीरांगना अवंतीबाई लोधी राजकीय महिला विद्यालय की छात्राओं के द्वारा चित्र प्रदर्शनी लगाई गई। जिलाधिकारी ने चित्र प्रदर्शनी का फीता काटकर शुभारम्भ किया।
द्रोपदी कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं ने मॉ सरस्वती वंदना प्रस्तुत किया। इस्लामिया गर्ल्स इण्टर कॉलेज की छात्राओं ने स्वागत गीत प्रस्तुत किया। श्रीमती इंदु मिश्रा ने बरेली का झुमका पर गीत, कांति कपूर सरस्वती बाल विद्या मंदिर कॉलेज ने नाटक, साहू रामस्वरूप कन्या इंटर कॉलेज की छात्राओं ने अप्रेणा ने बालिका दिवस के अवसर गीत प्रस्तुत किया एवं विभिन्न कॉलेजों के छात्राओं के द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए गए जिसे देखकर उपस्थित लोगों ने सराहना की।
जिलाधिकारी ने कहा कि उत्तर प्रदेश को पहले संयुक्त प्रांत के रूप में जाना जाता था। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश जल्द ही उत्तम प्रदेश बन जाएगा। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के निरन्तर प्रयास से प्रदेश आगे बढ़ रहा है और स्वरोजगार में नए-नए आयाम खोजे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी का जीवन आत्मनिर्भर और सुखमय हो इसके लिए केन्द्र एवं प्रदेश सरकार द्वारा स्वरोजगार की विभिन्न योजनाएं चलाई जा रही हैं। उन्होंने कहा कि स्वरोजगार किसी भी क्षेत्र में हो सकता है कृषि के क्षेत्र में, व्यापार के क्षेत्र में हो सकता है इसके माध्यम से अपना, समाज तथा प्रदेश का विकास कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री के मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश बन रहा है और सर्वोत्तम प्रदेश बनने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि अभी तक जनपद बरेली को झुमका के नाम से जाना जाता है लेकिन अब स्मार्ट सिटी के नाम से जाना जाएगा।
जिलाधिकारी ने कहा कि आज राष्ट्रीय बालिका दिवस का भी दिन है, बालिकाओं और महिलाओं का हमेशा सम्मान करना
चाहिए। उन्होंने कहा कि आज के समय में महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़-चढ़ कर हिस्सा ले रही हैं। उन्होंने उपस्थित छात्र एवं छात्राओं से कहा कि अगर कुछ बनना चाहते हो तो मेहनत और पढ़ाई को नियमित रूप से करते रहो तुम जिस भी क्षेत्र में जाना चाहते हैं उस दिशा में अवश्य कामयाबी मिलेगी। क्योंकि मेहनत और समर्पण का कोई मूल्य नहीं होता। उन्होंने कहा कि छात्र एवं छात्राएं अपने जनपद के साथ-साथ प्रदेश और देश का नाम अवश्य रोशन करें। जिलाधिकारी ने यू0पी0 बोर्ड कक्षा 10 व 12 की टॉप 5-5 छात्राओं को 5000 रुपए की चेक व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया। जिलाधिकारी ने प्रधानमंत्री आवास योजना (शहरी) के 5 लाभार्थियों को चाबी व प्रमाण पत्र, पी0एम0 स्वनिधि योजना के 5 लाभार्थियों को चेक, सोलर पम्प योजना के 2 लाभार्थियों, जनपद के 3 उन्नतशील कृषकों को स्मृति चिन्ह व प्रमाण पत्र प्रदान किए।  अपर जिलाधिकारी नगर डा0 आर0डी0 पाण्डेय ने अपने संबोधन में कहा कि उत्तर प्रदेश राज्य सामाजिक-सांस्कृतिक, आर्थिक में लगातार विकास कर रहा है।
स्वतंत्रता संग्राम में उत्तर प्रदेश की भूमिका की चर्चा करते हुए साहित्यकार श्री सुधीर विद्यार्थी ने खास तौर पर बरेली जनपद के परिप्रेक्ष्य में 1857 के महायुद्ध को रेखांकित करते हुए क्रांतिकारी खान बहादुर खान की शहादत के साथ बरेली कॉलेज के प्राध्यापक कुतुब शाह तथा वहां के छात्र जैमिग्रीन के बलिदान के ऐतिहासिक महत्व का मूल्यांकन किए जाने की जरूरत पर बल दिया। श्री विद्यार्थी ने अपने संबोधन में क्रांतिकारी दामोदर स्वरूप सेठ की क्रांतिकारी भूमिका का जिक्र करते हुए बरेली में उनकी लोकप्रियता की चर्चा की जब 1930 में शहर में उनके सम्मान में जनता की ओर से लगाये जाने वाले नारे को उल्लिखित करते हुए सुनाया, ‘बांस बरेली का सरदार, सेठ दामोदर जिंदाबाद।‘ अपने सारगर्भित उद्बोधन में श्री विद्यार्थी ने पंडित जवाहरलाल नेहरू के बरेली जेल में बिताए दिनों को स्मरण करते हुए वहां रही महिला स्वतंत्रता सेनानी तारावती के मार्मिक यादनामे के साथ ठाकुर पृथ्वीराज सिंह की पत्नी शीला देवी की मुक्ति-युद्ध में हिस्सेदारी को बताते हुए स्वतंत्रता संग्राम के उत्तर प्रदेशीय परिप्रेक्ष्य को ठीक से चित्रित करने के महत्व को रेखांकित किया।
रुहेलखण्ड विश्वविद्यालय के अर्थशास्त्र के प्रोफेसर डॉ आशुतोष ने अपने सम्बोधन में कहा कि रोजगार और निवेश में अटूट सम्बन्ध होता है क्योंकि रोजगार के लिए निवेश जरूरी होता है, वर्तमान प्रदेश सरकार ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में निवेश एमओयू साइन कर रही है, जिससे प्रदेश में लगभग 15 से 20 लाख के बीच में निवेश होने की संभावना बताई जा रही है इसके माध्यम से विभिन्न क्षेत्रों में रोजगार उत्पन्न होंगे और इसके माध्यम से प्रदेश सरकार का विकास होगा।
कवि डॉ दीपंकर गुप्ता ने उत्तर प्रदेश स्थापना दिवस के अवसर पर एक गीत प्रस्तुत किया। उत्तर प्रदेश हमारा, हम सबकी आंख का तारा, हर प्रश्न का है यहाँ उत्तर, भारत का राजदुलारा, उत्तर प्रदेश हमारा, हमको प्राणों से प्यारा है।
प्रगतिशील कृषक श्री लवलेश सिंह ने कृषि क्षेत्र में कृषि के माध्यम से विकास की ओर आगे बढ़ रहा है और खेती के बारे में विस्तार से जानकारी भी दी।
कार्यक्रम में अपर जिलाधिकारी नगर डा0 आर0डी0 पाण्डेय, मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ0 बलवीर सिंह, सिटी मजिस्ट्रेट श्री राकेश कुमार गुप्ता, जिला सूचना अधिकारी श्री योगेन्द्र प्रताप सिंह, जिला विद्यालय निरीक्षक श्री सोमारू प्रधान, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्री विनय कुमार, जिला पूर्ति अधिकारी श्री नीरज सिंह, जिला प्रोबेशन अधिकारी श्रीमती नीता अहिरवार,, डॉ0 हितु मिश्रा, डा0 रीता शर्मा, विभिन्न स्कूलों के प्रधानाचार्य, प्रधानाध्यापिकाएं, छात्र एवं छात्राएं सहित अन्य लोग उपस्थित रहे। बरेली से ए सी सक्सेना की रिपोर्ट

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper