उत्तर भारत में ठंड व कोहरे का कहर जारी

नईं दिल्ली। उत्तर भारत में इस समय कड़ाके की ठंड व कोहरे से जन जीवन अस्तव्यस्त है। कोहरे से हवाईं, रेल व सड़क यातायात बुरी तरह प्रभावित है। कश्मीर घाटी में लोग लगातार कड़ाके की ठंड का सामना कर रहे हैं। कल रात भी यहां पारा शून्य से कईं डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया था। अधिकारियों ने आज यह जानकारी दी।

मौसम विभाग के अधिकारी ने बताया कि श्रीनगर में पारा मामूली रूप से कुछ ऊपर चढ़ा था। यहां का तापमान कल रात शून्य से 4.3 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। दिन में धूप रहने की वजह से घाटी में ठंडी हवाएं चल रही हैं। वहीं रात में जलाशयों में बर्फ की पतली परत चढ़ जा रही है। अधिकारी ने बताया कि लद्दाख क्षेत्र का लेह कल रात सबसे ठंडी जगह रही। यहां का न्यूनतम तापमान कल रात शून्य से 14.7 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया था।

उन्होंने बताया कि करगिल शहर लेह की अपेक्षा थोड़ा गर्म रहा लेकिन यहां का न्यूनतम तापमान भी शून्य से 6.1 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। अधिकारी ने बताया कि दक्षिण कश्मीर के काजीगुंड में तापमान शून्य से 4.6 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। उन्होंने बताया कि उत्तरी कश्मीर के कोकेरनाग में तापशून्य से 3.4 डिग्री सेल्सियस नीचे जबकि कुपवाड़ा शहर में शून्य से 4.3 डिग्री सेल्सियस नीचे तापमान दर्ज किया गया।

उप्र के विभिन्न हिस्सों में बदली छायी होने और बर्फीली हवा चलने से ठिठुरन भरी ठंड जारी है। आंचलिक मौसम केन्द्र की रिपोर्ट के मुताबिक पिछले 24 घंटे के दौरान प्रदेश के ज्यादातर मण्डलों में दिन के तापमान में भारी गिरावट आयी। इस अवधि में वाराणसी, इलाहाबाद, लखनऊ, बरेली, आगरा, मेरठ, गोरखपुर, मुरादाबाद तथा झांसी मण्डलों में अधिकतम तापमान सामान्य से काफी नीचे दर्ज किया गया।

सर्वाधिक अधिकतम तापमान उरईं और मुरादाबाद में दर्ज किया गया जो 22 डिग्री सेल्सियस रहा। अधिकतम तापमान में हो रही गिरावट की वजह से काफी ठण्ड महसूस की जा रही है। ज्यादातर स्थानों पर चटख धूप नहीं निकलने के कारण गलन बरकरार है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
Loading...
E-Paper