उद्यमियों को निवेश के लिए आमंत्रित करने हेतु इन्वेस्टर्स समिट के तहत आईआईए भवन में सेमिनार आयोजित

 

लखनऊ: प्रदेश के नगर विकास एवं ऊर्जा मंत्री श्री ए0के0 शर्मा के नेतृत्व में उद्यमियों को आकर्षित करने तथा निवेश के लिए आमंत्रित करने हेतु नगर विकास विभाग और इंडियन इण्डस्ट्रीज एसोसिएशन (आईआईए) के बीच आईआईए भवन विभूति खण्ड, लखनऊ में आज इन्वेस्टर्स समिट के तहत सेमिनार आयोजित किया गया। इसमें 21 हजार करोड़ रूपये के निवेश के लिए विभिन्न कम्पनियों व नगर विकास विभाग के बीच 67 एमओयू हस्ताक्षरित किये गये तथा एक हजार करोड़ रूपये के निवेश प्रस्ताव भी प्राप्त हुए। उद्यमियों ने नगरीय विकास के क्षेत्र में एमएसएमई, बायो फ्यूल, बायो सीएनजी, इन्फ्रास्ट्रक्चर, सौर ऊर्जा, प्लास्टिक से सड़क निर्माण, सालिड बेस्ड ट्रीटमेंट आदि के क्षेत्र में निवेश के लिए सहमति बनी। उ0प्र0 में आने वाले ग्लोबल इन्वेटर्स समिट के दृष्टिगत आईआईए के उद्यमियों के साथ नगर विकास के क्षेत्र में अधिक से अधिक निवेश करने पर चर्चा हुई।

नगर विकास मंत्री श्री ए0के0 शर्मा ने इन्वेस्टर्स समिट को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश में अरबन सेक्टर विकास की धुरी बनता जा रहा है, इसे अब प्रदेश का ग्रोथ सेक्टर कहा जाता है। यह बहुत ही पोटेन्सियल सेक्टर है। कहा कि मा0 प्रधानमंत्री जी ’’वेस्ट टू गोल्ड’’ एवं ’’वेस्ट टू वेल्थ’’ की बात करते थे, जिसे प्रदेश में धरातल पर लाया जा रहा है। प्रदेश की वन ट्रिलियन डाॅलर की इकोनाॅमी बनाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि नगरों के विभिन्न क्षेत्रों में विकास हेतु निवेश की असीम संभावनायें हैं। कान्स्ट्रक्सन क्षेत्र में अभी बहुत करना बाकी है। शीघ्रता के साथ मजबूत व सुरक्षित इमारते बने, इसके लिए नई तकनीकी पर कार्य करना होगा।

ए0के0 शर्मा ने कहा कि नगरों के विकास के लिए नीतिगत निर्णय लिया जायेगा। शहरों को व्यवस्थित किया जा रहा है। नगर विकास को राजस्व की प्राप्ति हो, इस पर कार्य किया जा रहा है। उद्यमियों में से कोई इसका माॅडल बनाकर प्रस्तुत करना चाहे, तो उसका भी स्वागत है। नगरों में सालिड वेस्ट एनर्जी, बायो फ्यूल, बायो एनर्जी के क्षेत्रों में बहुत कार्य होना है। साथ ही विज्ञापन, डिसप्ले, इलेक्ट्रानिक बसों के संचालन, पार्कों, चैराहों का सौन्दर्यीकरण किया जाना है। उन्होंने कहा कि प्रदेश के 702 नगरों में शेष 100 नगरों को वैश्विक स्तर का बनाना है। इसके लिए उद्योगपति यहां निवेश करें और यहां की व्यापारिक गतिविधियों में भागीदार बने। उद्यमियों के जो भी सपने होंगे उसे प्रदेश सरकार द्वारा साकार किया जायेगा। हम सब मिलकर प्रदेश को एक विकसित प्रदेश के साथ इसे वैश्विक स्तर का बनायेगें। मंत्री जी ने आईआईए के परिस में बाॅटल ब्रस पौधे का रोपण भी किया।

प्रमुख सचिव नगर विकास श्री अमृत अभिजात ने कहा कि प्रदेश के नगरीय क्षेत्रों में विकास के लिए बहुत अधिक कार्य किया जाना है। यहां पर निवेश के लिए बहुत सेक्टर हैं। स्वच्छ भारत अभियान से प्रदेश में काफी बदलाव आया है, माहौल भी बदला है। यहां के नागरिक भी प्रदेश की बदलती तस्वीर के साक्षी बन रहे हैं। उन्होंनेे कहा कि हमारा प्रदेश देश की सबसे तीव्र गति से विकास करने वाला प्रदेश बन गया है। योजनाओं का लाभ जरूरतमंदों को मिल रहा है, जिससे उनके जीवन में व्यापक परिवर्तन आया है। योजनाओं को पारदर्शी तरीके से धरातल पर उतारा जा रहा है। नगरों की सड़कों को बेहतर तरीके से बनाने के लिए अरबन रोड की अलग से योजना लाई जायेगी।

आईआईए के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अशोक अग्रवाल ने कहा कि प्रदेश की वर्तमान स्थित उद्योगों के लिए बेहतर माहौल प्रदान कर रही है। इससे प्रदेश का विकास होगा और रोजगार भी बढ़ेगा। प्रदेश में निवेश को लेकर उद्यमी काफी उत्साहित हैं। प्रत्येक जिले एवं महानगरपालिका में आईआईए द्वारा इन्वेस्टमेंट समित द्वारा कार्य कराई जायेगी। छोटे-छोटे उद्यमियों को साथ में लेने से प्रदेश के विकास की गति बढ़ेगी। इन्वेटर्स समिट के सेमिनार में नगर विकास राज्यमंत्री श्री राकेश राठौर गुरू, प्रमुख सचिव श्री अनिल कुमार, सचिव श्री रंजन कुमार, विशेष सचिव श्री राजेन्द्र पेन्सिया, निदेशक नगरीय निकाय श्रीमती नेहा शर्मा विभागीय अधिकारियों के साथ आईआईए चैप्टर के पदाधिकारी, उद्योगपति उपस्थित थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... -------------------------
-----------------------------------------------------------------------------------------------------
-------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper