उद्योगपतियों की नुमाइश लगाकर गुनाहों को छिपाने की कोशिश कर रहे मोदी: राजबब्बर

लखनऊ: कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी लखनऊ में उद्योगपतियों की नुमाइश प्रदर्शनी लगाकर गुनाहों को छिपाने की कोशिश कर रहे हैं। उत्तर प्रदेश में 26 से 29 जुलाई के बीच सात लोगों की जानें गयीं। इसके बावजूद प्रधानमंत्री के मुख से संवेदना का एक शब्द भी नहीं निकला। मोदी को गरीबों की चिंता नहीं है। उन्हें सिर्फ उद्योगपतियों का बैंक बैलेंस नजर आता है। प्रदेश अध्यक्ष सोमवार को प्रदेश कांग्रेस कार्यालय पर आयोजित प्रेसवार्ता को संबोधित कर रहे थे।

राजबब्बर ने कहा कि मोदी अब खुल चुकी है। जनता उनसे जवाब चाहती है। पोल खुल जाने के बाद सफाई देने के लिए मोदी ने बेचारे बीमार आदमी को बैठा देते हैं। उन्होंने कहा कि लखनऊ में सम्पन्न इन्वेस्टर्स समिट बेरोजगारों के जले पर नमक छिड़कने का काम किया है। बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ का नारा देने वाली पार्टी की सरकार में छात्राओं की बर्बरतापूर्वक पिटाई की गयी है। इन सब मसलों पर मोदी के तौर तरीकों पर सवाल करने पर टाप- 2 तिलमिला जाते हैं।

राजबब्बर ने कहा कि देश की संसद के अन्दर राहुल गांधी ने प्रधामंत्री की पोल खोलकर रख दी है। पोल खुलने के बाद वह जगह-जगह चिल्ला रहे हैं कि हां मैं भागीदार हूँ। जिस कंपनी के पास साईकिल बनाने का अनुभव नहीं है। ऐसी कंपनी को प्रधानमंत्री ने राफेल विमान बनाने का ठेका दे दिया है। प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि भाजपा सरकार में किसान सबसे ज्यादा उपेक्षित है। आने वाले लोकसभा चुनाव में देश की जनता मोदी को सबक सिखायेगी।

उन्होंने कहा कि यूपीए -2 के कार्यकाल में इण्डस्ट्रियल ग्रोथ 06 प्रतिशत थी। 2018 में इण्डस्ट्रियल ग्रोथ 3.3 प्रतिशत रह गयी है। मोदी ने वायदा किया था कि भाजपा सरकार बनने के बाद दो करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे। अब इतना नाटक करने के बाद प्रधानमंत्री कह रहे हैं कि दो लाख युवाओं को रोजगार मिलेगा। राजबब्बर ने कहा कि प्रधानमंत्री नाटक कर रहे हैं। प्रेसवार्ता में प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर के साथ प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता शुचि विश्वास और सचिन रावत भी मौजूद थे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें... ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper